ताज़ा खबर
 

16 जून को सूर्य का राशि परिवर्तन, बन रहे विशेष योग, जानें किन राशियों के लिए शुभ और किनके लिए अशुभ

16 जून को सूर्य के के मिथुन राशि में गोचर से चतुर्ग्रही योग का निर्माण होगा जिसमें राहु-मंगल की युति 'अंगारक' योग बनाएगी। 'अंगारक योग' को अशुभ योग माना गया है।

16 जून को सूर्य का मिथुन राशि में गोचर, बन रहे कई दुर्लभ योग।

ज्योतिष अनुसार कुल 12 राशियां हैं और हर एक राशि का अपना एक स्वामी ग्रह भी है। ये ग्रह कुछ दिनों में अपनी राशि बदलते रहते हैं। जिनके राशि बदलने की एक समय सीमा होती है। चंद्रमा हर सवा दो दिन में तो सूर्य लगभग 30 दिनों में अपनी राशि बदलता है। वैसे तो ग्रहों का राशि बदलना एक सामान्य सी बात है लेकिन कई बार इन राशि परिवर्तन से कई तरह के दुर्लभ योग बन जाते हैं। इस बार सूर्य 16 जून को अपनी राशि बदलकर मिथुन राशि में चला जायेगा। जिस दौरान कई तरह के शुभ और अशुभ योगों का निर्माण हो रहा है। जानिए यह योग किन राशि वालों के लिए शुभ तो किनके लिये अशुभ रहने वाले हैं…

बुधादित्य योग – 16 जून 2019 को सूर्य मिथुन राशि में प्रवेश कर जायेगा। जिससे इस राशि में  ‘बुधादित्य योग’ का निर्माण होगा। ‘बुधादित्य योग’ जिसे राजयोग कहा गया है। इससे जातक को जीवन में लाभ और समृद्धि मिलती है।

गजकेसरी योग- 16 जून 2019 को चंद्र वृश्चिक राशि में रहेंगे। जहां पहले से ही देवगुरु बृहस्पति वक्र गति होकर विराजमान हैं। चंद्र की गोचरवश इस उपस्थिति से वृश्चिक राशि में 16 जून को ‘गजकेसरी’ नामक राजयोग बन रहा है। जिसे एक शुभ योग माना जाता है।

ग्रहण योग – 16 जून 2019 को सूर्य के मिथुन राशि में प्रवेश के साथ ही इस राशि में ‘ग्रहण योग’ का भी निर्माण होने जा रहा है। मिथुन राशि में राहु पहले से ही विराजमान है। सूर्य के गोचर से मिथुन राशि में सूर्य-राहु की युति का निर्माण होगा जिसे ‘ग्रहण योग’ के नाम से जाना जाता है। यहा एक अशुभ योग है जो जातक को जीवन में असफलताएं दिलाता है।

अंगारक योग- 16 जून को सूर्य के के मिथुन राशि में गोचर से चतुर्ग्रही योग का निर्माण होगा जिसमें राहु-मंगल की युति ‘अंगारक’ योग बनाएगी। ‘अंगारक योग’ को अशुभ योग माना गया है।

योगों का राशियों पर प्रभाव

– वृषभ, कर्क, कन्या, तुला, वृश्चिक, मकर और मीन राशि वालों के लिए यह संयोग शुभ रहने के आसार हैं।

– मेष, मिथुन, सिंह, धनु और कुंभ वालों को इन संयोग के होने पर अशुभ फल प्राप्त हो सकते हैं।

ब्रेकिंग न्‍यूज, अपडेट, एनालिसिस, ब्‍लॉग के लिए फेसबुक पेज लाइक, ट्विटर हैंडल फॉलो करें और लिंक्ड इन पर जुड़ें

First Published on June 10, 2019 11:58 am

More on this story

X