Saubhagya Sundari Vrat 2017 Date, Puja Vidhi and Vrat Katha: Know Saubhagya Sundari Vrat Puja Procedure, Method and Rituals, Read here - सौभाग्य सुंदरी व्रत 2017: मनचाहा पति पाने के लिए किया जाता है यह व्रत, जानें विधि और सामग्री - Jansatta
ताज़ा खबर
 

सौभाग्य सुंदरी व्रत 2017: मनचाहा पति पाने के लिए किया जाता है यह व्रत, जानें विधि और सामग्री

Saubhagya Sundari Vrat 2017 Date, Puja Vidhi: इस दिन मां पार्वती ने तपस्या करके भगवान शिव को पति के रूप में प्राप्त किया था।

इस दिन माता पार्वती जी का जन्म हुआ था।

सौभाग्य सुंदरी व्रत इस साल 6 नवंबर (सोमवार) 2017 को है। इस व्रत को रखने से संतान और पति का सुख मिलता है। साथ ही अविवाहित महिलाओं को मनचाहा वर मिलता है। इस व्रत को मार्गशीर्ष (अगहन) मास की तृतीया तिथि को तीज की तरह सौभाग्य सुंदरी व्रत रखा जाता है। इस दिन मां गौरी की विशेष पूजा की जाती है। माना जाता है इस दिन माता पार्वती जी का जन्म हुआ था। इस दिन मां पार्वती ने तपस्या करके भगवान शिव को पति के रूप में पाया था और कार्तिकेय जी और गणेश जी जैसे प्रतापी बेटों को जन्म दिया। इसलिए इस दिन अच्छे पति और योग्य संतान के लिए सौभाग्य सुंदरी व्रत किया जाता है।

आज एक विशेष संयोग भी बन रहा है। सोमवार को शिव जी और चंद्रमा का दिन माना जाता है। चंद्र का रोहणी नक्षत्र है। इस दिन व्रत करने से सभी मनोकामनाएं पूरी होंगी। इस व्रत में महिलाएं तीज की तरह सजती हैं और भगवान शिव के साथ कार्तिकेय और गणेश जी पूजा की जाती है। इस व्रत से धन-दौलत और ऐश्वर्य की प्राप्ति होती है।

सामग्री- फूल की मालाएं, फल, लड्डू, पंचामृत, बेलपत्र, धतूरा, चावल, चंदन, अनाज, पान, सुपारी, लौंग और इलायची चढ़ाएं। हल्दी, चूड़ियां, श्रृंगार के सामान, सूखे मेवे चढ़ाएं। धूप और दीपक दिखाकर आरती करें।

विधि – हिन्दू धर्म के शास्त्रों के मुताबिक सौभाग्य सुंदरी व्रत के दिन प्रातः स्नान करके महिलाओं को पूर्ण शृंगार करने के बाद एक वेदी बनाना चाहिए। वेदी को सजाकर उस पर गौरी माता की मूर्ति रखकर पूरे विधि-विधान के साथ पूजा करनी चाहिए। इस दिन शादीशुदा महिलाओं को एक टाइम भोजन करना चाहिए। एक समय केवल दूध से बनी चीजे ही खानी चाहिए।

सौभाग्य सुंदरी व्रत से लाभ – सौभाग्य सुंदरी व्रत रखने से विवाहित स्त्रियों, दांपत्य तथा विवाह में देरी तथा मंगली दोष को दूर करने में फलदायी माना जाता है। इस व्रत के प्रभाव से अखंड सौभाग्यवती होने का आशीर्वाद प्राप्त होता है।

ब्रेकिंग न्‍यूज, अपडेट, एनालिसिस, ब्‍लॉग के लिए फेसबुक पेज लाइक, ट्विटर हैंडल फॉलो करें और गूगल प्लस पर जुड़ें

First Published on November 6, 2017 2:56 pm