ताज़ा खबर
 
  • राजस्थान

    Cong+ 94
    BJP+ 80
    RLM+ 0
    OTH+ 25
  • मध्य प्रदेश

    Cong+ 109
    BJP+ 109
    BSP+ 7
    OTH+ 5
  • छत्तीसगढ़

    Cong+ 64
    BJP+ 18
    JCC+ 8
    OTH+ 0
  • तेलांगना

    TRS-AIMIM+ 89
    TDP-Cong+ 22
    BJP+ 2
    OTH+ 6
  • मिजोरम

    MNF+ 29
    Cong+ 6
    BJP+ 1
    OTH+ 4

* Total Tally Reflects Leads + Wins

राहु-केतु के प्रकोप से छिन जाते हैं जिंदगी के तमाम सुख, ऐसे पाएं छुटकारा

ज्योतिष शास्त्र में राहु और केतु के बुरे प्रभाव को दूर करने के लिए तमाम सारे उपाय बताए गए हैं। इन्हीं में से एक है काले या सफेद कुत्ते को रोटी खिलाना।

प्रतीकात्मक तस्वीर।

ज्योतिष शास्त्र में राहु और केतु को अशुभ ग्रह बताया गया है। कहते हैं कि कुंडली में राहु और केतु की गलत दशा से व्यक्ति के जीवन में कई सारी परेशानियां आ जाती हैं। वह व्यक्ति तमाम प्रयास के बावजूद भी अपने जीवन में सफलता हासिल नहीं कर पाता है। ऐसे व्यक्ति के जीवन से आय के स्रोत समाप्त होने लगते हैं। इसके साथ ही व्यक्ति के पास आया हुआ धन अधिक समय तक नहीं टिक पाता है। इसके अलावा संतान प्राप्ति में भी मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। इस प्रकार से समझा जा सकता है कि कुंडली में राहु और केतु का गलत जगह पर होना कितना बुरा प्रभाव डालता है। आज हम आपको कुछ ऐसे आसान से उपाय बता रहे हैं जिनसे आप आसानी से राहु और केतु के प्रकोप से छुटकारा पा सकते हैं।

ज्योतिष शास्त्र में राहु और केतु के बुरे प्रभाव को दूर करने के लिए तमाम सारे उपाय बताए गए हैं। इन्हीं में से एक है काले या सफेद कुत्ते को रोटी खिलाना। जी हां, ऐसा कहा जाता है कि काले या सफेद कुत्ते को रोटी खिलाने से राहु और केतु के प्रकोप को दूर किया जा सकता है। ऐसा करते समय इस बात का ध्यान रखें कि आपके रोटी खिलाने से कुत्तों में लड़ाई ना हो। इसके साथ ही सुबह के वक्त स्नान करने के बाद ऐसा करना सही रहता है।

राहु और केतु के प्रकोप से बचने के लिए एक यह भी उपाय बताई जाती है कि घर में चांदी से बना हुआ हाथी स्थापित करना चाहिए। यह चांदी का हाथी कम से कम 250 ग्राम का होना चाहिए। कहते हैं कि ऐसा करने से व्यक्ति राहु और केतु के बुरे प्रभाव से बचता है। एक अन्य तरीके की बात करें तो कान में तार पहनने से भी राहु और केतु से बचा जा सकता है। यह तार आपके कानों में कम से कम 43 दिनों तक होना चाहिए।

ब्रेकिंग न्‍यूज, अपडेट, एनालिसिस, ब्‍लॉग के लिए फेसबुक पेज लाइक, ट्विटर हैंडल फॉलो करें और गूगल प्लस पर जुड़ें

First Published on May 22, 2018 3:55 pm

More on this story