ताज़ा खबर
 

आज है सीता नवमी, जानिए इनके जन्म से जुड़ी रोचक कथा

राजा जनक की कोई संतान नहीं होने के कारण उन्होंने इस कन्या को अपनी पुत्री के रूप में स्वीकार कर लिया। कहा जाता है उसी दौरान मिथिला में जोर की बारिश हुई और राज्य का अकाल दूर हो गया।

sita navami, sita mata navami, sita mata ka janam, sita mata jayanti, sita jayanti, sita mata birth story, sita mata birth place, sita mata birt date, sita mata birthday, sita mata janam, सीता माता नवमी, सीता जयंती, सीता माता का जन्म कैसे हुआ, सीता माता जन्म,आज है सीता नवमी।

आज सीता नवमी है। वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि को माता सीता का जन्म हुआ था। इस दिन व्रत रखकर माता सीता और भगवान राम की पूजा की जाती है। पौराणिक कथाओं के अनुसार एक बार मिथिला के राजा जनक के यहां भयंकर सूखा पड़ गया था। अपनी प्रजा की परेशानी देखकर राजा काफी परेशान हो गए थे। उन्होंने इस समस्या का हल निकालने के लिए ऋषियों को दरबार में बुलाया और इस समस्या के समाधान के बारे में जानना चाहा। ऋषियों ने इस समस्या का हल निकालकर राजा जनक से कहा कि अगर महाराज खुद हल चलाकर खेत को जोतते हैं तो उससे भगवान इंद्र की कृपा प्राप्त होगी। जिससे इस अकाल से मुक्ति मिल जाएगी। अपने राज्य की भलाई के लिए राजा जनक ने ऋषियों की यह सलाह मानकर हल चलाने का निर्णय लिया।

राजा ने हल चलाना शुरु कर दिया। हल चलाते चलाते उनकी अचानक से किसी धातु से टक्कर हुई जिस कारण उनका हल वहीं रूक गया। तमाम कोशिशों के बाद भी हल उस जगह से नहीं निकल पाया। तब राजा जनक ने उस जगह की खुदाई करवाने का निर्णय लिया। जमीन की खुदाई के दौरान सैनिकों ने वहां एक कलश देखा। जिसमें एक सुंदर सी कन्या थी। राजा जनक की कोई संतान नहीं होने के कारण उन्होंने इस कन्या को अपनी पुत्री के रूप में स्वीकार कर लिया। कहा जाता है उसी दौरान मिथिला में जोर की बारिश हुई और राज्य का अकाल दूर हो गया। जिस समय राजा जनक को माता सीता मिली थी उसी समय को माता का जन्म का दिन मान लिया गया।

वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि को जन्मीं माता सीता की जयंती को खासकर नेपाल में बड़ी ही धूमधाम से मनाया जाता है। क्योंकि वर्तमान में मिथिला नेपाल का भाग है। राजा जनक की पुत्री होने के कारण माता सीता को जानकी और धरती से इनकी उत्पत्ति होने के कारण इन्हें भूमिपुत्री भी कहा जाता है। माता सीता को मिथिला की राजकुमारी होने के कारण मैथिली भी कहा जाता है।

More on this story
Next Stories
1 चंद्र का सिंह राशि में गोचर, मिथुन और कन्या राशि वालों को विशेष लाभ मिलने की है संभावना
2 जूते चप्पल का चोरी होना या टूट जाना ज्योतिष अनुसार शुभ या अशुभ?
3 जून में जन्मे लोग होते हैं किस्मत के धनी, जानें जन्म का और कौन सा समय माना गया है शुभ
आज का राशिफल
X