ताज़ा खबर
 

घर की सीढ़ियां आपकी उन्नति में बाधक तो नहीं, जानिए किस दिशा में होनी चाहिए

वास्तु शास्त्र के मुताबिक घर में सीढ़ि‍यों की दिशा दक्षिण, पश्चिम या फिर दक्षिण-पश्चिम में होनी चाहिए।

घर में घुमावदार सीढ़ियां शुभ मानी जाती है।

घर में सीढ़ियां की सही दिशा का वास्तु शास्त्र में बहुत महत्व है। घर में गलत दिशा में सीढ़ियों को होना बड़ा वास्तुदोष माना जाता है। सही दिशा में सीढ़ी ना होने पर घर में अनेक समस्याएं पैदा हो जाती है। घर में आर्थिक परेशानी होने लगती है साथ ही सुख-समृद्धि का वास नहीं होता है। आइए आज जानते हैं वास्‍तु के अनुसार कैसे बनाई जाएं सीढ़ि‍यां-

वास्तु शास्त्र के मुताबिक घर में सीढ़ि‍यों की दिशा दक्षिण, पश्चिम या फिर दक्षिण-पश्चिम में होनी चाहिए। वास्तु के अनुसार घर में कभी भी उत्तर दिशा में सीढ़ी नहीं बनानी चाहिए। इसके अलावा कभी उत्तर-पूर्व दिशा में सीढ़ी नहीं बनानी चाहिए। सीढ़ियों के निर्माण के लिए उत्तर-पश्चिम दिशा सही मानी जाती है।

घर में हमेशा विषम संख्या में सीढ़ियां होना चाहिए। जैसे – 15,17,19 या फिर 21। घर में विषम संख्या में सीढ़ियां बनाने से सुख-समृद्धि रहती है। सीढ़‍ियों में रोशनी की व्यवस्था होनी चाहिए। साथ ही सीढ़ी चौड़ी बनानी चाहिए। इससे घर में मां लक्ष्मी की कृपा बनी रहती है। घर के मेन दरवाजे के सामने सीढ़ी नहीं होनी चाहिए। माना जाता है कि ऐसा करने से घर के सदस्यों को तरक्की के अवसर नहीं मिल पाते हैं।

घर में घुमावदार सीढ़ियां शुभ मानी जाती है। मकान बनाते समय इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि मेन गेट पर खड़े व्यक्ति को घर के अंदर की सीढ़ियां ना दिखाई दें। अगर ऐसा होता है तो यह वास्तु दोष मानी जाती है। घर के बीच में कभी सीढ़ियां नहीं बनवानी चाहिए। घर में सीढ़ियों के वास्तु दोष से बचने के लिए प्लास्टिक के फूलों का वाला पौधा लगाकर या क्रिस्‍टल बॉल छत से टांगकर दोष दूर किया जा सकता है।

ब्रेकिंग न्‍यूज, अपडेट, एनालिसिस, ब्‍लॉग के लिए फेसबुक पेज लाइक, ट्विटर हैंडल फॉलो करें और गूगल प्लस पर जुड़ें

First Published on December 30, 2017 5:23 pm