scorecardresearch

Aaj ka Panchang 17 August 2022 (Wednesday) In Hindi: आज है षष्ठी तिथि, जानिए सर्वार्थ सिद्धि योग का समय और राहुकाल

Panchang 17 August 2022 Wednesday, Aaj Ka Panchang Today Panchang 17 August 2022 Wednesday in Hindi : आज अश्वनी नक्षत्र है और षष्ठी तिथि है। आइए जानते हैं शुभ और अशुभ मुहूर्त का समय…

Aaj ka Panchang 17 August 2022 (Wednesday) In Hindi: आज है षष्ठी तिथि, जानिए सर्वार्थ सिद्धि योग का समय और राहुकाल
आज का पंचांग- 17-08-2022

Daily Hindi Panchang 17 August 2022: वैदिक पंचांग के अनुसार आज आज भाद्रपद कृष्ण पक्ष की षष्ठी तिथि और बुधवार का दिन है। षष्ठी तिथि आज रात 8 बजकर 24 मिनट तक रहेगी। आज रात 9 बजकर मिनट तक रवि योग रहेगा। आइए जानते हैं आज शुभ- अशुभ समय…

सूर्योदय-सूर्यास्त और चंद्रोदय-चंद्रास्त का समय

सूर्योदय – 05:50:58 AM

सूर्यास्त – 18:58:03 PM

चन्द्रोदय – 22:30:58

चन्द्रास्त – 11:01:58

Aaj ki Tithi 17 August 2022 (आज 17 अगस्त की तिथि)

तिथि षष्ठी – 20:26:39 तक

नक्षत्र अश्विनी – 21:57:55 तक

करण: गर – 08:16:35 तक, वणिज – 20:26:39 तक

पक्ष: कृष्ण

वार: बुधवार

मास पूर्णिमांत: भाद्रपद

आज का अशुभ मुहूर्त

दुष्टमुहूर्त: 11:59:45 से 12:51:18 तक

कुलिक: 11:58:46 से 12:51:18 तक

कंटक: 17:14:59 से 18:06:31 तक

राहु काल: 12:26:01 से 14:03:32 तक

कालवेला / अर्द्धयाम: 06:43:32 से 07:36:04 तक

यमघण्ट: 08:26:36 से 09:21:09 तक

यमगण्ड: 07:29:31 से 09:08:00 तक

गुलिक काल: 10:46:31 से 12:26:01 तक

Aaj ka Shubh Muhurat Samay 17 August  2022 (आज 17 अगस्त शुभ मुहूर्त का समय):

शुभ मुहूर्त/अशुभ मुहूर्त 17 अगस्त 2022 Panchang: हिंदू धर्म में किसी भी धार्मिक और मांगलिक कार्य से पहले शुभ मुहूर्त देखा जाता है। ज्योतिष के अनुसार कुल मिलाकर 30 मुहूर्त होते हैं जिसमें से 15 शुभ मुहूर्त और 15 अशुभ मुहूर्त माने जाते हैं।

अभिजीत मुहूर्त :   11:54:00 से 12:50:00 तक

विजय मुहूर्त: 14:42:00 से 15:38:00 तक

सर्वार्थ सिद्धि योग:  09:56:00 से 05:23:00, 18 जून तक

दिशाशूल: बुधवार को उत्तर दिशा में यात्रा करना शुभ नहीं माना गया है। फिर भी अगर मजबूरी में यात्रा करनी पड़ जाए तो धनिया या तिल खाकर यात्रा करें।

आज का विशेष उपाय: आज के दिन का संबंध बुधवार और भगवान गणेश से है। इसलिए आज शाम को गणेश जी को  4 बेसन से लड्डुओं का भोग लगाएं और गणेश चालीसा का पाठ करें। इस दिन गाय को हरा खिलाएं। जिससे आपको गणेश जी की कृपा प्राप्त होगी।

तिथि का महत्वः इस तिथि में तैलीय चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए और यह तिथि यात्रा, पितृ कर्म, मंगल कार्य आदि के लिए शुभ है।

तिथि स्वामीः षष्ठी तिथि के स्वामी भगवान कार्तिकेय जी हैं तथा सप्तमी तिथि के स्वामी भगवान सूर्य देव हैं। सूर्य देव को ग्रहों का राजा कहा जाता है।

पढें horoscope (Horoscope News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.