scorecardresearch

Rahu Remedies: अशुभ राहु दे सकता है डिप्रेशन और मानसिक तनाव, ऐसे करें इस ग्रह को शांत

जन्मकुंडली में राहु अशुभ या पीड़ित स्थित हो तो यह व्यक्ति को मानसिक रोग और डिप्रेशन देता है। आइए जानते हैं राहु ग्रह को शांत करने के उपाय…

rahu planet effect in kundli, rahu planet remedy
जन्मकुंडली में राहु ग्रह का प्रभाव- (जनसत्ता)

वैदिक ज्योतिष में राहु ग्रह को विशेष स्थान प्राप्त है। ज्योतिष में राहु ग्रह को छाया ग्रह कहा जाता है। राहु ग्रह अगर कुंडली में अशुभ हो तो व्यक्ति को कई परेशानियों का सामना करना पड़ता है। राहु ग्रह को वैदिक ज्योतिष में कठोर वाणी, जुआ, यात्राएं, चोरी, दुष्ट कर्म, त्वचा के रोग का कारक माना जाता है। राहु ग्रह व्यक्ति को मानसिक रोग और डिप्रेशन भी देता है। 

आज हम बताने जा रहे हैं अगर किसी व्यक्ति की कुंडली में राहु ग्रह कमजोर या अशुभ हो तो उसको जीवन में क्या परेशानियां आने लगती हैं और उसके उपाय क्या हैं।

राहु कमजोर होने से जीवन में आने लगती हैं ये परेशानियां:
ज्योतिष शास्त्र अनुसार जन्मकुंडली में राहु ग्रह अशुभ स्थिति होने से व्यक्ति को शारीरिक समस्याएं भी हो सकती हैं। पीड़ित राहु व्यक्ति के स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव डालता है। इसके कारण हिचकी, पागलपन, आंतों की समस्या, अल्सर, गैस्ट्रिक आदि समस्याएं हो सकती हैं। अशुभ राहु होने से  व्यक्ति मांस, शराब तथा अन्य मादक पदार्थों का सेवन करने लगता है।

राहु खराब होने के लक्षण: 
ज्योतिष शास्त्र अनुसार किसी भी ग्रह के खराब होने का अंदाजा उसके प्रभावों से लगाया जा सकता है। जैसे राहु ग्रह खराब होने पर ससुराल पक्ष से संबंध बिगड़ने लगते हैं। साथ ही याददाश्त कम होने लगती है, गुप्त शत्रुओं में वृद्धि होगी। व्यक्ति को गुस्से पर नियंत्रण नहीं रहता है, मानसिक तनाव भी बढ़ने लगता है। अज्ञात भय की स्थिति उत्पन्न हो जाती है।,साथ ही आर्थिक नुकसान उठाना पड़ता है। अगर मंगल के साथ राहु ग्रह स्थित है तो दुर्घटना के योग भी बनते हैं।

राहु के उपाय: राहु को मजबूत करने के लिए ये कुछ उपाय किये जा सकते हैं…

– राहु ग्रह के बीज मन्त्र: ॐ भ्रां भ्रीं भ्रौं स: राहवे नम: का 108 बार रोजाना जाप करना चाहिए।

– व्यक्ति को हनुमान जी या सरस्वती माता की पूजा करनी चाहिए।

– ससुराल पक्ष से व्यक्ति संबंध अच्छे रखने चाहिए।

– व्यक्ति को बजरंग बाण या हनुमान चालीसा का पाठ प्रतिदिन करना चाहिए। 

– जन्मकुंडली का विश्लेषण कराकर गोमेद धारण करना चाहिए।

– व्यक्ति को तिल और जौ किसी हनुमान मंदिर में दान करने चाहिए।

– राहु दोष से मुक्ति पाने के लिए व्यक्ति को दुर्गा चालीसा का पाठ प्रतिदिन करना चाहिए।

– लाल किताब अनुसार पक्षियों को रोजाना बाजरा खिलाना चाहिए।

– भोलेनाथ का हर सोमवार रुद्राभिषेक करना चाहिए।

– तामसिक आहार व मदिरापान ना करें।

– प्रतिदिन सुबह के समय चंदन का टीका लगाएं।

पढें horoscope (Horoscope News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट

X