ताज़ा खबर
 

सूंघने की शक्ति में कमी जल्दी मौत के खतरे का हो सकती है संकेत, माइग्रेन और अल्जाइमर की भी सूचना देती है नाक

सूंघने और सांस लेने के काम आने वाली नाक आपके ओवरऑल हेल्थ के बारे में भी बहुत सारे संकेत करती है। मतलब कि आप अपनी नाक पर होने वाले बदलावों के अधार पर अपनी सेहत के बारे में सही जानकारी का अनुमान लगा सकते हैं।

प्रतीकात्मक चित्र

सूंघने और सांस लेने के काम आने वाली नाक आपके ओवरऑल हेल्थ के बारे में भी बहुत सारे संकेत करती है। मतलब कि आप अपनी नाक पर होने वाले बदलावों के अधार पर अपनी सेहत के बारे में सही जानकारी का अनुमान लगा सकते हैं। आपके सूंघने की शक्ति से कुछ बीमारियों का अंदाजा लगाया जा सकता है। आज हम आपको ऐसे ही तीन संकेतों के बारे में बताने वाले हैं जो 3 गंभीर बीमारियों की पूर्व सूचना आपको देते हैं। आइए, जानते हैं कि वे संकेत क्या हैं।

1. मरने का खतरा – सूंघ पाने की शक्ति में कमी गंभीर सेहत संबंधी समस्या की ओर इशारा करती है। अमेरिका में किए गए एक शोध में दावा किया गया है कि ऐसे लोग जिनमें कुछ खास चीजों को सूंघने में दिक्कत आती है उनके अगले 5 सालों के अंदर मरने का खतरा ज्यादा होता है। यह खतरा उन लोगों के मुकाबले 19 प्रतिशत ज्यादा होता है जो ठीक-ठाक गुलाब, पिपरमिंट और संतरे की खुशबू सूंघ लेते हैं, वहीं जिनकी सूंघने की शक्ति सबसे बेहतर होती है उनमें यह खतरा सबसे कम होता है।

HOT DEALS
  • Honor 7X 64 GB Blue
    ₹ 15375 MRP ₹ 16999 -10%
    ₹0 Cashback
  • Jivi Energy E12 8 GB (White)
    ₹ 2799 MRP ₹ 4899 -43%
    ₹0 Cashback

2. माइग्रेन – अगर आपको अक्सर ऐसी चीजों की गंध महसूस होती है जो आपके आस-पास हो ही नहीं तो यह माइग्रेन का पूर्व संकेत होता है। एक रिसर्च में इस बात का खुलासा किया गया है। शोध में कहा गया है कि काल्पनिक गंध माइग्रेन होने के लक्षणों में से एक होता है।

3. अल्जाइमर – हावर्ड मेडिकल स्कूल के एक शोध में इस बात का दावा किया गया है कि सूंघने में दिक्कत अल्जाइमर का शुरुआती संकेत हो सकता है। शोध में कहा गया है कि जिन लोगों में एमिलॉइड प्लाक्स की उच्च मात्रा पाई जाती है ऐसे लोगों की सूंघने की शक्ति काफी कमजोर होती है। एमिलॉइड प्लाक्स एक तरह का प्रोटीन है जो अल्जाइमर के रोगियों के दिमाग में पाया जाता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App