ताज़ा खबर
 

लड़कों को जन्‍म देने वाली महिलाओं में डिप्रेशन का ज्‍यादा खतरा: रिसर्च

हाल ही किए गए एक शोध के अनुसार, जो महिलाएं बेटे को जन्म देती हैं उनमें पोस्टनैटल डिप्रेशन की संभावनाएं 71-79 प्रतिशत अधिक होती हैं।

Author नई दिल्ली | November 13, 2018 10:41 AM
प्रतीकात्मक चित्र।

गर्भावस्था के दौरान अधिकतर महिलाएं तनाव से गुजरती हैं क्योंकि इस दौरान आपके शरीर में बहुत से शारीरिक और मानसिक बदलाव होते रहते हैं। साथ ही प्रसव के बाद भी महिलाओं को अक्सर डिप्रेशन की समस्या हो जाती है लेकिन इसकी संभावनाएं लड़कों को जन्म देने वाली माताओं में अधिक होती है। ऐसा एक शोध में पाया गया है। स्टडी के अनुसार बेटे को जन्म देने वाली महिलाओं में प्रसव के बाद डिप्रेशन होने का खतरा 71-79 प्रतिशत अधिक होता है। इसके अलावा जिन महिलाओं को प्रसव के दौरान समस्याओं का सामना करना पड़ता है उनमें डिप्रेशन होने का खतरा 174 प्रतिशत ज्यादा होता है।

यूनिवर्सिटी ऑफ केन्ट पोस्टनेटल डिप्रेशन(पीएनडी) पर की गई एक स्टडी में ये परिणाम पाए गए हैं। शोध के परिणामों के बाद डॉ सारा जोन्स और डॉ सारा मायर्स का कहना है कि लड़के को जन्म देना और जन्म देते समय होने वाली जटिलताएं पोस्टनेटल डिप्रेशन के मुख्य फेक्टर्स हैं। इस शोध के आधार पर चिकित्सकों को इन फेक्टर्स को पहचानने और उन गर्भवती महिलाओं को सपोर्ट करने में मदद मिलेगी जिनमें इस समस्या के होने की संभावनाएं ज्यादा हैं।

डॉ जोन्स ने कहा, ‘पीएनडी एक ऐसी समस्या है जिससे बचाव किया जा सकता है और यह देखा गया है कि अतिरिक्त सहायता और सपोर्ट देकर उन महिलाओं में इस समस्या को विकसित होने से रोका जा सकता है जिनमें इसकी संभावनाएं ज्यादा हैं।’

लड़के के जन्म और जन्म के दौरान जटिलताओं का अनुभव दोनों ही चीजें शरीर में इंफ्लेमेशन को बढ़ाती हैं। इस अध्ययन से पहले, पीएनडी और इनके बीच संबंध अस्पष्ट था। बता दें इस शोध में 296 महिलाओं की पूरी रिप्रोडक्टिव हिस्ट्री पर अध्ययन किया गया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App