ताज़ा खबर
 

Pregnancy के दौरान महिलाएं हो सकती हैं हर्निया की शिकार, जानें कैसे रखें खुद को सुरक्षित

Hernia during Pregnancy: पेट पर बढ़ते दबाव को बैलेंस करने के लिए डॉक्टर गर्भवती महिलाओं को सपोर्ट बेल्ट पहनने की सलाह देते हैं

hernia, hernia symptoms, hernia treatment, hernia during pregnancy, pregnancy complicationप्रेग्नेंसी के दौरान जब पेट पर दबाव अधिक पड़ने लगता है तो हर्निया से पीड़ित होने का खतरा बढ़ जाता है

Hernia during Pregnancy: गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को अपनी सेहत के प्रति अधिक सतर्क रहने की जरूरत होती है। इसका कारण है कि उनको खुद के साथ अपने गर्भ में पल रहे शिशु का भी ख्याल रखना पड़ता है। गर्भावस्था के समय महिलाओं में शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक रूप से कई बदलाव आते हैं। वहीं, लापरवाही बरतने पर प्रेग्नेंट महिलाओं को कई स्वास्थ्य परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। इस दौरान होने वाली स्वास्थ्य समस्याओं में से एक है हर्निया। आमतौर पर हर्निया की परेशानी कुछ भारी सामान उठाने या सर्जरी के बाद लोगों को होती है। प्रेग्नेंसी के दौरान जब पेट पर दबाव अधिक पड़ने लगता है तो हर्निया से पीड़ित होने का खतरा बढ़ जाता है। ऐसे में आइए जानते हैं कि गर्भवती महिलाओं को किन बातों का रखना चाहिए ध्यान-

प्रेग्नेंसी में क्यों है खतरा अधिक: गर्भावस्था के दौरान महिलाओं के पेट पर अधिक दबाव पड़ता है। साथ ही, प्रेग्नेंसी के दौरान जब औरतों का पेट फैलता है तो इससे पेट की दीवारों पर भी प्रेशर बढ़ता है। इसके कारण नाभि में परेशानी हो सकती है, कई बार, नाभि गर्भावस्था के दौरान निकल जाती है और नाभि के आसपास के टिश्यूज टूट जाते हैं। इसके अलावा, हर्निया के कारण महिलाओं के पेट के आसपास गांठ की शिकायत हो सकती है। प्रेग्नेंसी के समय में हर्निया से पीड़ित महिलाओं को कई तरह की असुविधा हो सकती है। हालांकि, शिशु पर इसका कोई नकारात्मक असर नहीं पड़ता है।

क्या हो सकते हैं लक्षण: हर्निया के लक्षण हर व्यक्ति में अलग-अलग होते हैं। इमेजिंग टेस्ट या फिर फिजिकल टेस्ट से आप पता कर सकते हैं कि आपको हर्निया है या नहीं। आमतौर पर, पेट के आसपास कोई उभार या फिर गांठ इस बीमारी का संकेत हो सकता है। इसके अलावा, तेज दर्द, उल्टी, चक्कर आना, हंसते या खांसते समय पेट में दर्द होना भी हर्निया के लक्षणों में शामिल है।

ऐसी रखें डाइट: प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाओं को कुछ-कुछ समय के अंतराल पर खाने की क्रेविंग होती रहती है। इस क्रेविंग को मिटाने के लिए अगर महिलाएं अनहेल्दी खाना खाती हैं। ऐसे में हर्निया से बचाव के लिए जरूरी है कि प्रेग्नेंट महिलाएं डाइट में हरी सब्जियों को शामिल करें। इसके अलावा, मटर, बीन्स जैसी फलियों के सेवन से भी उन्हें फायदा होगा। ताजे फलों का रस, साबुत अनाज, ओमेगा 3 फैटी एसिड युक्त खाद्य पदार्थों को भी शामिल करना चाहिए।

ये भी हैं बचाव के तरीके: पेट पर बढ़ते दबाव को बैलेंस करने के लिए डॉक्टर गर्भवती महिलाओं को सपोर्ट बेल्ट पहनने की सलाह देते हैं। इसके अलावा, अब्डॉमिनल मसल्स को मजबूत करने वाले एक्सरसाइज को भी दिनचर्या का हिस्सा बनाना चाहिए। जितना हो सके शारीरिक गतिविधियों को अहमियत दें।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Vitamin C सेहत के लिए है जरूरी, पर ज्यादा खाने से हो सकती है सिट्रस एलर्जी- जानिये कैसे करें बचाव
2 High BP से पाना चाहते हैं निजात तो इन आयुर्वेदिक उपायों को करें दिनचर्या में शामिल
3 लिवर को हेल्दी रखेगा किशमिश से बना ये ड्रिंक, जानिये घर पर कैसे बनाएं
IPL 2020 LIVE
X