ताज़ा खबर
 

मेनोपॉज के बाद महिलाएं होती हैं हाई यूरिक एसिड की शिकार, जानें- बचाव के तरीके

Uric Acid in Women: मासिक धर्म के बंद होने के बाद शरीर में यूरिक एसिड की अधिकता न हो इसके लिए महिलाओं को कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए

शरीर में यूरिक एसिड का स्तर बढ़ने से गठिया जैसी बीमारी का खतरा भी बढ़ता है

Uric Acid in Women: आज की बदलती जीवन-शैली में लोग कम उम्र में ही कई बीमारियों की चपेट में आ जाते हैं। गलत खान-पान और स्वास्थ्य के प्रति लापरवाही करने से लोगों को स्वास्थ्य संबंधी कई परेशानियों का सामना करना पड़ता है। वहीं, महिलाओं में मासिक धर्म बंद होने यानि कि मेनोपॉज के बाद कई बीमारियों से घिरने का खतरा अधिक होता है। शरीर में यूरिक एसिड की अधिकता इन्हीं परेशानियों में से एक है। हाई यूरिक एसिड के मरीजों को जोड़ों में दर्द, हाथ-पैर में सूजन और उठने बैठने में दिक्कत होती है। शरीर में यूरिक एसिड का स्तर बढ़ने से गठिया जैसी बीमारी का खतरा भी बढ़ता है। आइए जानते हैं मेनोपॉज के बाद महिलाएं खुद को कैसे रख सकती हैं सुरक्षित-

मेनोपॉज और हाई यूरिक एसिड: एक शोध के अनुसार मेनोपॉज से पहले हाई यूरिक एसिड होने की परेशानी 50 महिलाओं में देखी गई जबकि माहवारी के खत्म हो जाने के बाद ये आंकड़ा 88 हो जाता है। वहीं, इससे ये भी पता चलता है कि यूरिक एसिड की अधिकता से दिल की बीमारी का खतरा भी बढ़ता है। मेनोपॉज के बाद शरीर में कई तरह के हार्मोनल बदलाव आते हैं। इस दौरान जो महिलाएं शारीरिक रूप से सुस्त होती हैं, उनमें किसी भी बीमारी होने का खतरा ज्यादा होता है क्योंकि फिजिकल इनैक्टिविटी के कारण उनका मेटाबॉलिक रेट कम हो जाता है। ऐसे में अगर शरीर में यूरिक एसिड के स्तर को कंट्रोल न किया जाए तो ये अर्थराइटिस का रूप भी ले सकता है।

ऐसे करें बचाव: मासिक धर्म के बंद होने के बाद शरीर में यूरिक एसिड की अधिकता न हो इसके लिए महिलाओं को कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए। उन्हें अपनी डाइट में कम मात्रा में हाई प्रोटीन युक्त भोजन का सेवन करना चाहिए। बता दें कि शरीर में प्यूरीन नामक प्रोटीन के ब्रेकडाउन होने पर ही ब्लड में यूरिक एसिड का स्तर बढ़ता है। ऐसे में महिलाओं को अपने आहार में उन खाद्य पदार्थों को शामिल करने से बचना चाहिए जिनमें प्यूरीन की मात्रा अधिक हो। इसके अलावा, फाइबर व एंटी-ऑक्सीडेंट्स से भरपूर खाने को अधिक महत्व देना चाहिए।

फिट रहने के लिए करें व्यायाम: एक अध्ययन के अनुसार मेनोपॉज के बाद जो महिलाएं शारीरिक रूप से एक्टिव रहती हैं उनमें कोई भी बीमारी होने का खतरा कम रहता है। वहीं, सुस्त महिलाएं स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं से अधिक परेशान रहती हैं। यूरिक एसिड की अधिकता को कम करने में व्यायाम करना भी फायदेमंद हो सकता है। योग करने से आप एनर्जेटिक तो महसूस करेंगे ही, साथ ही हाथ, पैर व बाजुओं की मांसपेशियों मजबूत होती हैं। इससे जोड़ों के दर्द और हाथ-पैर में सूजन से भी राहत मिलती है। कपोतासन, वृक्षासन और उष्ट्रासन जैसे योगासन को करने से मदद मिलेगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories
1 Covid 19: कोरोना वायरस से बचने के लिए धूप और खुली हवा भी जरूरी, जानें- वैज्ञानिकों ने और क्या कहा..
2 डायबिटीज के मरीजों के लिए रामबाण है काला लहसुन, जानिये क्या है इसे घर पर बनाने का तरीका
3 यूरिक एसिड को कम करने में कारगर हैं एंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर फूड्स, प्यूरीन के स्तर को रखते हैं नॉर्मल