ताज़ा खबर
 

वाई-फाई इंटरनेट इस्तेमाल करने वाले सावधान, नींद की कमी के साथ हो सकती हैं ये समस्याएं

जो लोग इंटरनेट की तेज गति के लिए ब्रॉडबैंड और वाई-फाई आदि का इस्तेमाल करते हैं उनकी सेहत पर बुरा असर पड़ सकता है।

प्रतीकात्मक चित्र

आज के समय में इंटरनेट का इस्तेमाल तेजी से बढ़ा है। लोग ज्यादा से ज्यादा वक्त सोशल साइट्स पर बिताने की कोशिश करते हैं। इसके अलावा किसी भी तरह की जानकारी लेने के लिए इंटरनेट का इस्तेमाल किया जाता है। लेकिन क्या आप जानते हैं, जो लोग इंटरनेट की तेज गति के लिए ब्रॉडबैंड और वाई-फाई आदि का इस्तेमाल करते हैं उनकी सेहत पर बुरा असर पड़ सकता है।

दरअसल, हाल ही में सामने आए एक नए अध्ययन में दावा किया गया है कि तेज गति के इंटरनेट का इस्तेमाल, आप कैसी और कितनी नींद लेते हैं, इसे प्रभावित कर सकता है। इस शोध में देखा गया कि जो लोग डिजिटल सब्सक्राइबर लाइन (डीएसएल) का प्रयोग करते हैं वह डीएसएल इंटरनेट नहीं इस्तेमाल करने वालों की तुलना में 25 मिनट कम नींद ले पाते हैं। डीएसएल एक ऐसी तकनीक है जो साधारण तांबे की टेलीफोन तारों की बजाए ज्यादा बैंडविथ के इंटरनेट को घरों और छोटे कारोबारों तक पहुंचाता है।

वहीं इटली के बोकोनी यूनिर्विसटी और अमेरिका की यूनिर्विसटी ऑफ पिट्सबर्ग के शोधकर्ताओं ने बताया कि तेज गति के इंटरनेट के प्रयोग से उन लोगों में नींद की अवधि और नींद पूरी होने की संतुष्टि घटती है जो सुबह में काम या पारिवारिक कारणों के लिए समय नहीं निकाल पाते।वैज्ञानिक के मुताबिक 7 से 9 घंटे की नींद लेना जरूरी होता है।

नींद की कमी से होने वाली समस्याएं

हार्ट अटैक: नींद का आपकी हृदय स्वास्थ्य से गहरा नाता होता है। नींद पूरी नहीं होने से दिल पर बहुत बुरा असर पड़ता है। इससे हार्ट अटैक तक हो सकता है।

डायबिटीज: अच्छी नींद नहीं मिलने पर शुगर से भरपूर और जंक फूड खाने की इच्छा बढ़ जाती है। इससे हाई ब्लड प्रेशर और मधुमेह जैसी बीमारियों के होने का खतरा बढ़ जाता है।

ऑस्ट‍ियोपोरोसिस: नींद की कमी के चलते हड्डियां कमजोर होना शुरू हो जाती हैं। जिससे हड्डियों में मौजूद मिनरल्स का संतुलन भी बिगड़ता है और जोड़ों के दर्द की समस्या पैदा हो सकती है।

कैंसर: कई शोधों में ये बात सामने आई है कि कम नींद लेने की वजह से ब्रेस्ट कैंसर होने का खतरा बढ़ जाता है। साथ ही शरीर में कोशिकाओं को भी काफी नुकसान होता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App