फैटी लिवर के मरीजों को किन चीजों से करना चाहिए परहेज, जानिए

Fatty Liver: हेल्थ एक्सपर्ट्स का मानना है कि फैटी लिवर के मरीजों की डाइट का ध्यान न रखा जाए तो यह उनकी सेहत के लिए घातक साबित हो सकता है।

fatty liver, fatty liver symptoms, fatty liver diet
इस बीमारी से ग्रस्त लोग या तो लिवर के सिकुड़ने से परेशान होते हैं (File Photo)

मनुष्य के शरीर में सबसे महत्त्वपूर्ण अंगों में से एक लिवर है। शरीर को स्वस्थ बनायें रखने एवं उसके ठीक प्रकार से कार्य करने के लिए लिवर का स्वस्थ होना बेहद जरूरी है। लिवर मेटाबॉलिज्म को ठीक कर ऊर्जा का संचयन करता है और शरीर से विषैले पदार्थों को बाहर निकालने का काम करता है। लेकिन फिर भी कुछ मामलों में लापरवाही बरतने पर लिवर को नुकसान पहुंच सकता है।

फैटी लिवर की समस्या की मुख्य वजह मोटापा, बिगड़ा हुआ खानपान और बिगड़ा हुआ लाइफस्टाइल है। फैटी लिवर की बीमारी के दो प्रकार हैं, जिनमें अल्कोहलिक और नॉन-अल्कोहलिक फैटी लिवर शामिल हैं। लेकिन शराब के आलावा भी कुछ ऐसे कारण हैं, जो फैटी लीवर (Fatty Liver) की वजह बन सकते हैं। नॉन अल्कोहलिक फैटी फैटी लिवर डिसीज वो बीमारी है, जो शराब के सेवन मात्र से नहीं होती है। इसलिए फैटी लिवर के पेशेंट को यह सलाह दी जाती हैं कि वह अपनी डाइट का खास ख्याल रखें और कुछ विशेष फूड आइटम को अपनी डाइट में शामिल करें।

शुगर युक्त खाद्य पदार्थ न खाएं: ब्लड शुगर के मरीजों की तरह फैटी लिवर के मरीजों के लिए चीनी बहुत नुकसानदेह साबित होती है। क्योंकि अधिक चीनी खाने से आपके ब्लड में शुगर का स्तर बढ़ सकता है। खून में शुगर का अधिक स्तर बढ़ जाने से लिवर में अधिक फैट जमा होने लगता है। इसलिए शुगर युक्त खाद्य पदार्थ जैसे कैडी, आइस्क्रीम खाने से परहेज करना चाहिए।

तले हुए पदार्थ न खाएं: बड़े हुए लिवर के मरीजों को ज्यादा तले हुए और नमक वाले खाद्य पदार्थों का सेवन करने से बचना चाहिए। क्योंकि इसमें अधिक कैलोरी होती है, जिन्हें खाने से व्यक्ति का वजन बढ़ सकता है। नमक की जगह पर आप भोजन में अधिक मसाले और जड़ी-बूटी मिला सकते हैं। इसलिए अधिक तले हुए खाद्य पदार्थों को और नमक वाले खाद्य पदार्थों को खाने से बचना चाहिए।

रिफाइंड अनाज खाने से बचें: फैटी लिवर के मरीजों को प्रोसेस्ड और रिफाइंड अनाज जैसे व्हाइट ब्रेड, पास्ता और व्हाइट राइस बेहद नुकसानदायक होते हैं। दरअसल रिफाइंड अनाज कई प्रक्रियाओं से गुजरकर बनता है। इस प्रक्रिया के दौरान अनाज से फाइबर अलग कर दिया जाता है। अनाज जब फाइबर रहित हो जाते हैं, तो ब्लड शुगर के स्तर को बढ़ाते हैं। इसलिए इसे खाने से परहेज करना चाहिए। सामान्य तौर पर फैटी लिवर के मरीजों को शराब, चीनी, नमक, ट्रांस वसा, परिष्कृत कार्बोहाइड्रेट, संतृप्त वसा खाद्य पदार्थों से परहेज करने को कहा जाता है। इसके अलावा शराब पीना खास तौर से मना होता है।

पढें हेल्थ समाचार (Healthhindi News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट