scorecardresearch

बढ़े हुए कोलेस्ट्रॉल के इन 5 लक्षणों को समझें, नहीं तो आपको कभी भी पड़ सकता है दिल का दौरा!

High Cholestrol: कोलेस्ट्रॉल का बढ़ा हुआ स्तर हृदय रोग, तंत्रिका रोग, दिल का दौरा जैसी गंभीर और जानलेवा बीमारियों को जन्म दे सकता है।

बढ़े हुए कोलेस्ट्रॉल के इन 5 लक्षणों को समझें, नहीं तो आपको कभी भी पड़ सकता है दिल का दौरा!
हाल के दिनों में हार्ट अटैक के मामलों में उछाल आया है। (प्रतीकात्मक तस्वीर- Freepik)

शरीर में कोलेस्ट्रॉल का बढ़ना एक बहुत ही गंभीर समस्या है। कोलेस्ट्रॉल एक खराब पदार्थ है जो रक्त वाहिकाओं में जमा हो जाता है और अगर इसका स्तर बढ़ता रहा तो यह हृदय रोग, नसों से संबंधित रोग, दिल का दौरा और स्ट्रोक जैसी गंभीर बीमारियों का कारण बन सकता है। सबसे पहले जानते हैं कि कोलेस्ट्रॉल क्या है? कोलेस्ट्रॉल दो प्रकार का होता है, एक अच्छा कोलेस्ट्रॉल और दूसरा खराब कोलेस्ट्रॉल।

जब शरीर में खराब कोलेस्ट्रॉल का स्तर बढ़ जाता है तो स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं शुरू हो जाती हैं। लीवर भी शरीर में प्राकृतिक रूप से कोलेस्ट्रॉल बनाता है और इसका सबसे बड़ा कारण आपका खान-पान है। हालांकि, यदि आप कोई शारीरिक गतिविधि नहीं करते हैं, तो उच्च कोलेस्ट्रॉल और भी अधिक बढ़ सकता है।

कोलेस्ट्रॉल के लक्षण क्या हैं?

गंभीर बात यह है कि शरीर में कोलेस्ट्रॉल के कोई स्पष्ट संकेत नहीं होते हैं, इसलिए हम तुरंत यह नहीं पहचान सकते कि कोलेस्ट्रॉल कितना और बढ़ गया है। दरअसल, कोलेस्ट्रॉल के बढ़ने से रक्त वाहिकाओं यानी रक्त वाहिकाओं में रुकावट आती है और इस तरह शरीर में रक्त का प्रवाह धीमा हो जाता है। इसके अलावा कुछ ऐसे संकेत भी हैं जो आपको बताते हैं कि आपके शरीर में कोलेस्ट्रॉल बढ़ गया है।

कोलेस्ट्रॉल बढ़ने पर क्या होता है?

सीडीसी के अनुसार, उच्च कोलेस्ट्रॉल के लक्षण आमतौर पर तब तक प्रकट नहीं होते जब तक कि यह एक गंभीर समस्या का कारण नहीं बनता। यह जानने का एकमात्र तरीका है कि क्या आपके एलडीएल कोलेस्ट्रॉल के स्तर को मापने के लिए आपके पास रक्त परीक्षण है। कोलेस्ट्रॉल पर ध्यान न दिया जाए तो इसकी परत नसों में जमा होने लगती है। यह दिल को नुकसान पहुंचाता है और दिल का दौरा या स्ट्रोक का कारण बन सकता है।

इन लक्षणों को न करें नजरअंदाज

जब कोलेस्ट्रॉल की बात आती है, तो कुछ ऐसे लक्षण होते हैं जिन्हें आपको बिल्कुल भी नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। जैसे जी मिचलाना, शरीर सुन्न होना, अत्यधिक थकान, अचानक सीने में दर्द, सांस लेने में तकलीफ, हाथ-पैर ठंडे होना, उच्च रक्तचाप। इस तरह के लक्षण आमतौर पर उच्च कोलेस्ट्रॉल का संकेत होते हैं। इसलिए चीजें हाथ से निकलने से पहले डॉक्टर से सलाह लें और उचित इलाज शुरू करें।

लक्षण दिखने पर क्या करें?

अगर आपको ऊपर दिए गए लक्षणों में से कोई भी लक्षण नजर आए तो तुरंत डॉक्टर से मिलें और उन्हें समस्या बताएं। यह वह समय है जब आपको जल्द से जल्द निदान करने की आवश्यकता होती है। क्योंकि जितनी जल्दी इसका निदान किया जाएगा, उतनी ही जल्दी इसका इलाज किया जा सकता है। डॉक्टर आमतौर पर इसके लिए टेस्ट कराने का आदेश देते हैं। यह एक रक्त परीक्षण है और इसके माध्यम से ही यह पता लगाया जा सकता है कि आपके शरीर में कुछ भी गलत नहीं है। इसलिए अगर डॉक्टर आपको कहे तो आपको तुरंत यह टेस्ट कर लेना चाहिए।

45 साल बाद टेस्ट जरूरी है

नेशनल हार्ट लंग एंड ब्लड इंस्टीट्यूट (NHLBI) की सिफारिश है कि 45 से 65 वर्ष की आयु के पुरुषों और 55 से 64 वर्ष की आयु के बीच की महिलाओं को हर एक से दो साल में रक्त परीक्षण करवाना चाहिए। हालांकि, यदि आप 65 वर्ष से अधिक उम्र के हैं, तो विशेषज्ञों का कहना है कि आपको हर साल अपने कोलेस्ट्रॉल का परीक्षण करवाना चाहिए। तो इस बात का ध्यान रखें और अगर आपके आस-पास कोई इस बारे में जानना चाहता है तो उनमें जागरूकता फैलाएं। तभी हम इस अंदरूनी बीमारी से लड़ सकते हैं।

कैसे समझें कि बिना टेस्ट के कोलेस्ट्रॉल बढ़ गया है?

समस्या यह है कि शरीर को कोलेस्ट्रॉल के बढ़ने का एहसास तब तक नहीं होता जब तक कि यह कुछ गंभीर समस्याएं पैदा न कर दे। डॉक्टर भी इस बात से सहमत हैं कि आपको 11 साल की उम्र से लेकर 55 साल की उम्र में हर पांच साल में अपना फोर्स लिपिड टेस्ट करवाना चाहिए।

पढें हेल्थ (Healthhindi News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

First published on: 01-10-2022 at 01:02:50 pm
अपडेट