Blood Sugar बढ़ने पर कैसा होता है महसूस? जानें कितना शुगर लेवल होता है नॉर्मल

Diabetes Test: डायबिटीज आमतौर पर दो तरह की होती है जिसमें टाइप 1 और टाइप 2 शामिल है, इसे जांचने के लिए एक्सपर्ट्स 4 प्रकार के टेस्ट्स की सलाह दे सकते हैं

diabetes, high blood sugar, diabetes test
उच्च रक्त शर्करा के मुख्य लक्षणों में ज्यादा प्यास लगना, बार-बार पेशाब जाने की इच्छा, थकान, कमजोरी शामिल है

Normal Blood Sugar Level Range: हाई ब्लड शुगर की परेशानी तब उत्पन्न होती है जब शरीर या तो पर्याप्त मात्रा में इंसुलिन बना नहीं पाता है या फिर उसका इस्तेमाल नहीं कर पाता है। बता दें कि इंसुलिन एक प्रकार का हार्मोन है जो ब्लड ग्लूकोज को रेगुलेट करता है और उसे सेल्स तक पहुंचाता है जहां ग्लूकोज एनर्जी में कंवर्ट हो जाती है। उच्च रक्त शर्करा को हाइपरग्लाइसेमिया कहते हैं। आइए जानते हैं कि ब्लड शुगर के कितने स्तर को नॉर्मल माना जाता है और इसके बढ़ने पर मरीजों को कैसा महसूस हो सकता है।

स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार डायबिटीज आमतौर पर दो तरह की होती है जिसमें टाइप 1 और टाइप 2 शामिल है। इसे जांचने के लिए एक्सपर्ट्स 4 प्रकार के टेस्ट्स की सलाह दे सकते हैं।

ग्लाइकेटेड हीमोग्लोबिन (A1C) टेस्ट: ये ब्लड टेस्ट कराने से पहले आप खा सकते हैं, इसमें पिछले दो से तीन महीने के औसत ब्लड शुगर का आकलन किया जाता है। ये हीमोग्लोबिन से अटैच रक्त शर्करा के प्रतिशत को बताता है। एक्सपर्ट के अनुसार अगर इसका रिजल्ट 5.7% से कम है तो नॉर्मल, 5.7 से 6.4% के बीच है तो प्री-डायबिटीज और 6.5% से अधिक है तो डायबिटीज होता है।

रैंडम ब्लड शुगर टेस्ट: ये टेस्ट किसी भी वक्त किया जा सकता है, विशेषज्ञों के मुताबिक इस जांच में अगर ब्लड शुगर लेवल 200 mg/dL से ज्यादा होता है तो डायबिटीज हो सकता है।

फास्टिंग ब्लड शुगर टेस्ट: इस जांच से पहले मरीज को करीब 8 से 9 घंटे भूखे रहना पड़ता है। फास्टिंग ब्लड शुगर अगर 100 mg/dL से कम होता है तो उसे नॉर्मल माना जाएगा। वहीं, 100 से लेकर 125 mg/dL को प्री-डायबिटीज और 126 mg/dL या उससे ज्यादा को डायबिटीज करार दिया जाता है।

ओरल ग्लूकोज टॉलरेंस टेस्ट: इस जांच में पहले फास्टिंग ब्लड शुगर को नापा जाता है, फिर कोई भी मीठा लिक्विड पीने के करीब 2 घंटे बाद फिर शुगर लेवल टेस्ट होता है। इस जांच में नॉर्मल शुगर लेवल 140 mg/dL से कम होता है। जबकि 140 से 199 mg/dL को प्री-डायबिटीज और 200 mg/dL को डायबिटीज कहते हैं।

ब्लड शुगर बढ़ने पर कैसा होता है महसूस: उच्च रक्त शर्करा के मुख्य लक्षणों में ज्यादा प्यास लगना, बार-बार पेशाब जाने की इच्छा, थकान, कमजोरी शामिल है। इसके अलावा, सिर दर्द, कमजोर नजरें, फोकस करने में कमी, घाव भरने में समय लगने जैसी दिक्कत भी मरीज को हो सकती है।

पढें हेल्थ समाचार (Healthhindi News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।