ताज़ा खबर
 

सेब से लेकर ग्रीन टी तक, इन फूड्स के इस्तेमाल से काबू में रहेगा यूरिक एसिड

Uric Acid Home Remedies: गठिया के मरीजों को शिमला मिर्च खाने की सलाह देते हैं क्योंकि ये दर्द कम करने में सहायक है

सेब मैलिक एसिड से भरपूर होते हैं जो खून में यूरिक एसिड के स्तर को न्यूट्रलाइज करने में मददगार साबित होता है

Uric Acid Remedies: प्यूरीन एक ऐसा केमिकल कंपाउड है जो कार्बन और नाइट्रोजन एटम से बनता है। जब शरीर में इसका ब्रेकडाउन होता है तो यूरिक एसिड का निर्माण होता है। जब लोग ज्यादा मात्रा में प्यूरीन युक्त फूड्स का सेवन करते हैं तो इससे शरीर में इस एसिड की मात्रा बढ़ जाती है। जो लोग हाइपरयूरिसेमिया यानी हाई यूरिक एसिड की परेशानी से ग्रस्त हैं उन्हें अपने खानपान को लेकर बेहद सतर्क रहने की जरूरत है। ऐसे में प्यूरीन युक्त फूड्स के साथ ही फैट से भी दूरी बना लेनी चाहिए।

वहीं, स्वास्थ्य विशेषज्ञ बताते हैं कि कुछ फूड्स के सेवन से यूरिक एसिड पर नियंत्रण बना रहता है। आइए जानते हैं विस्तार से –

सेब: सेब मैलिक एसिड से भरपूर होते हैं जो खून में यूरिक एसिड के स्तर को न्यूट्रलाइज करने में मददगार साबित होता है। ऐसे में जो लोग यूरिक एसिड के मरीज हैं उन्हें अपनी डाइट में सेब को शामिल करना चाहिए।

अजवाइन: स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार अजवाइन में कई ऐसे गुण पाए जाते हैं जो हाइपरयूरिसेमिया के मरीजों के लिए लाभप्रद है। इसमें एंटी-इन्फ्लेमेट्री तत्व पाए जाते हैं जो सूजन को कम करने में मददगार हैं। फॉस्फोरस, कॉपर, मैंगनीज, आयरन, कोबाल्ट, आयोडीन जैसे कई दूसरे पोषक तत्वों की मौजूदगी से अजवाइन यूरिक एसिड के बढ़ने के कारण होने वाली दिक्कतों को दूर करता है।

सेब का सिरका: हाई यूरिक एसिड से ग्रस्त लोग सेब के सिरके का सेवन भी कर सकते हैं। इससे सूजन, जोड़ों में दर्द और अन्य दिक्कतों को दूर करने में सहायक है। एक गिलास पानी में 3 चम्मच ऐप्पल साइडर विनेगर मिलाएं। आप इसे 2 से 3 बार रोज पीयें।

शिमला मिर्च: गठिया के मरीजों को शिमला मिर्च खाने की सलाह देते हैं क्योंकि ये दर्द कम करने में सहायक है। ऐसे में जिन लोगों को जोड़ों व घुटनों में दर्द की शिकायत रहती है, साथ ही उठने-बैठने, चलने-फिरने में दिक्कत होती है, उन्हें शिमला मिर्च का सेवन करना चाहिए। ये असहनीय दर्द को दूर करने में मदद करता है।

केला: खून में मौजूद अतिरिक्त यूरिक एसिड के स्तर को काबू करने के लिए लोग केला का सेवन करते हैं। इसमें प्रचुर मात्रा में फाइबर पाया जाता है जो मरीजों के लिए लाभकारी साबित होता है।

ग्रीन टी: इसमें भरपूर मात्रा में एंटी-ऑक्सीडेंट्स पाए जाते हैं जो यूरिक एसिड कंट्रोल करने में सहायक हैं। दिन में दो बार इसके सेवन से गाउट यानी गठिया का खतरा कम होता है।

Next Stories
1 सूखी खांसी दूर करने में प्रभावी साबित होंगे ये घरेलू उपाय, जानिये
2 ब्लड प्रेशर के मरीजों के लिए दवा से कम नहीं अलसी का बीज, जानें कैसे करें यूज
3 कोरोना से उबर रहे Diabetes मरीजों की कैसी होनी चाहिए डाइट? यहां जानें
यह पढ़ा क्या?
X