इन कारणों से बढ़ती है पेट पर चर्बी, जानिये छुटकारा पाने के उपाय

बेली फैट को कम करने के लिए सबसे पहले खराब खानपान, जैसे- जंकफूड, डीप फ्राइड चीजें, आइसक्रीम, चॉलकेट आदि के सेवन को बिल्कुल कम कर देना चाहिए। इसके अलावा अपनी दिनचर्या में फिजिकल एक्टिविटीज को शामिल करना चाहिए।

Lifestyle, lifestyle news, belly fat
पेट की चर्बी को कम करने के लिए अपने खाने में शामिल करें ये चीजें

वर्तमान समय में बेली फैट यानी पेट की चर्बी एक आम समस्या बन गई है। युवाओं से लेकर उम्रदराज लोग हर कोई मोटापे का शिकार हो रहे हैं। पेट की चर्बी अगर बहुत ज्यादा हो जाए तो यह कहीं-न-कहीं आपकी पर्सेनैलिटी को प्रभावित करने लगता है। बेली फैट बढ़ने के कई कारण होते हैं। जब बॉडी में मौजूद हार्मोन्स असंतुलित हो जाते हैं तो पेट पर फैट बढ़ने लगता है। इसके अलावा जो व्यक्ति अधिक तनाव लेता है, उसमें कॉर्टिसोल हार्मोन का स्तर बढ़ जाता है।

इसके कारण पेट के आसपास चर्बी इक्ट्ठा होने लगती है। पेट की बढ़ी हुई चर्बी शारिरिक समस्याओं का भी संकेत देती है। ऐसे में बेली फैट को कम करना बेहद ही जरूरी है। आप हार्मोन असंतुलन के लिए डॉक्टर्स की सलाह के साथ ही अपनी लाइफस्टाइल और खानपान में बदलाव करके भी बेली फैट को कम कर सकते हैं।

बेली फैट को कम करने के लिए सबसे पहले खराब खानपान, जैसे- जंकफूड, डीप फ्राइड चीजें, आइसक्रीम, चॉलकेट आदि के सेवन को बिल्कुल कम कर देना चाहिए। इसके अलावा अपनी दिनचर्या में फिजिकल एक्टिविटीज को शामिल करना चाहिए। साथ ही पेट की चर्बी कम करने के लिए आप ये चीजें भी अपनी डाइट में शामिल कर सकते हैं।

बीन्स: बीन्स में प्रचुर मात्रा में प्रोटीन मौजूद होता है, यह मांसपेशियों को मजबूत करता है। बीन्स के सेवन से आपको लंबे समय तक भूख नहीं लगती। इसमें मौजूद सोलबल फाइबर बेली फैट को कम करने में मदद करता है।

टमाटर: टमाटर का इस्तेमाल यूं तो सब्जी और सलाद में किया जाता है। लेकिन साथ ही यह पेट की चर्बी को कम करने में भी कारगर है। इसमें मौजूद 9-oxo-ODA नाम का यौगिक खून में लिपिड को कम करता है। जिससे बेली फैट कम करने में मदद मिलती है।

अजवाइन: पेट की चर्बी कम करने के लिए अजवाइन बेहद ही कारगर है। इसमें मौजूद फाइबर, कैल्शियम और विटामिन-सी बेली फैट को घटाने में मदद करते हैं। साथ ही अजवाइन में बेहद ही कम कैलोरी होती हैं। इसके लिए खाने से पहले अजवाइन का पानी पीना चाहिए, इससे पाचन तंत्र हमेशा दुरुस्त रहता है।

अपडेट