ताज़ा खबर
 

लो बीपी की समस्या से निजात दिला सकते हैं ये घरेलू उपाय

Remedies for Low Blood Pressure: निम्न रक्तचाप(लो बीपी) वाले लोगों को आमतौर पर नमक और पेय पदार्थ लेने की जरूरत होती है। लो ब्लडप्रेशर के कारण थकान, मिचली और बेहोशी जैसी समस्याएं उत्पन्न होती है।

लो ब्लडप्रेशर के लिए घरेलू उपचार (Source: Indian Express)

Remedies for Low Blood Pressure: लो ब्लडप्रेशर को हाइपोटेंशन भी कहा जाता है। जब ब्लडप्रेशर मापने वाली मशीन पर रीडिंग लगातार 90/60 एमएमएचजी या उससे कम दिखाने लगता है तो इसे हाइपोटेंशन माना जाता है। यह एक ऐसी स्थिति है जिसमें व्यक्ति का रक्तचाप इतना कम हो जाता है कि उसे चक्कर आना, बेहोशी, थकान, मिचली, सांस लेने में कठिनाई, धुंधलापन दिखना, चिपचिपी त्वचा जैसे लक्षण महसूस होने लगते हैं। अगर आपको निम्न रक्तचाप की समस्या है तो आपको घबराने की जरूरत नहीं है। आप कुछ घरेलू उपायों के जरिये इस समस्या को काबू कर सकते हैं।

नमक पानी:
नमक पानी लो ब्लड प्रेशर का इलाज करने में मदद करता है क्योंकि नमक में सोडियम होता है जो रक्तचाप को बढ़ाता है। एक गिलास पानी में नमक का आधा चम्मच मिलाएं और इसे पीएं। लेकिन इस उपचार को ज़्यादा इस्तमाल नहीं करना चाहिए क्योंकि अधिक नमक स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकता है।

अदरक:
अदरक लो ब्लडप्रेशर वाले लोगों के लिए अच्छा साबित हो सकता है। इस जड़ी-बूटी में कई फायदेमंद तत्व शामिल होते हैं जिनमें एंटीऑक्सीडेंट्स जैसे कि जिन्जरोल, शोगोल और ज़िंजेरोन जैसे केमिकल्स शामिल हैं जो आपके रक्तचाप के स्तर को नियंत्रित रखने में मदद करता है। इसके अलावा अदरक में एंटी-क्लॉटिंग, एंटी-स्पॉसमोडिक और एंटी-इंफ्लेमेट्री गुण भी होते हैं जो रक्तसंचार को बढ़ाते हैं जिससे शरीर में रक्तचाप संतुलित रहता है।

तुलसी और शहद:
तुलसी विटामिन-सी, मैग्नीशियम, पैंटाथेनीक एसिड और पोटेशियम में उच्च होता है जो रक्तचाप को नियंत्रित रखने में मदद करता है। इसके अलावा यह आपके दिमाग को संतुलित करने में भी सहायता करता है और आपके तनाव को कम करता है, जिससे आपका रक्तचाप सामान्य होता है। साथ ही शहद में एंटीऑक्सीडेंट और एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं जो लो ब्लडप्रेशर वाले लोगों के लिए बहुत फायदेमंद होता है।

रोजमेरी और जैतून का तेल:
यह भी एक अन्य जड़ी-बूटी है जो लो ब्लडप्रेशर के उपचार में फायदेमंद होता है। रोजमेरी शरीर में रक्तसंचार को सुधार करने में मदद करता है और नर्वस सिस्टम को बढ़ाता है। रोजमेरी को जैतून के तेल के साथ इस्तेमाल करने से रक्तचाप, सिरदर्द और रक्तसंचार नियंत्रित हो जाता है।

(और Health News पढ़ें)

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App