ताज़ा खबर
 

आंखों के लिए इन 5 टिप्स को आदत में करेंगे शामिल तो जीवन भर नहीं लगाना पड़ेगा चश्मा

टीवी, मोबाइल और कंप्यूटर पर ज्यादा समय बिताने की वजह से बहुत कम उम्र के बच्चों में भी नजरदोष की समस्याएं आने लगी हैं।

प्रतीकात्मक चित्र।

आजकल की जीवनशैली में कंप्यूटर, मोबाइल और लैपटॉप आदि लोगों के जीवन का अहम हिस्सा बनते जा रहे हैं। इनके धुआंधार इस्तेमाल की वजह से लोगों को आंखों से संबंधित समस्याएं भी काफी मात्रा में बढ़ी हैं। टीवी, मोबाइल और कंप्यूटर पर ज्यादा समय बिताने की वजह से बहुत कम उम्र के बच्चों में भी नजरदोष की समस्याएं आने लगी हैं। चश्मा भी धीरे-धीरे लोगों के जीवन का अनिवार्य हिस्सा बनता जा रहा है। ऐसे माहौल में आंखों के प्रति हमारी जिम्मेदारिया बढ़ी हैं। अब हमें इनका ज्यादा ख्याल रखना चाहिए। आज हम आपको कुछ ऐसे टिप्स के बारे में बताने जा रहे हैं जिनका नियमित इस्तेमाल आपको आंखों की समस्याओं से बचाने में मदद कर सकता है। तो चलिए जानते हैं कि वे टिप्स क्या हैं।

1. घांसों पर टहलें – हर रोज सुबह हरी घास पर 15-20 मिनट तक नंगे पैर टहलें। घास पर ओस की नमी रहती है। इस वजह से आंखों को ठंडक पहुंचती है। इससे तनाव से भी राहत मिलता है। नियमित रूप से ऐसा करने पर आंखों की रोशनी भी बढ़ती है।

2. आखों पर ठंडे पानी के छीटें मारें – सुबह उठकर सबसे पहले मुंह में पानी भरकर आंखों पर साफ ठंडे पानी के छीटें मारें। इस दौरान आंखें खुली रहें। इससे आंखों की रोशनी बढ़ती है और अगर आप चश्मा लगाते हैं तो उसका नंबर कम होता है।
खान-पान में ध्यान-

3. हरी पत्तेदार सब्जियां खाएं – आंखों की सेहत के लिए पालक, पत्ता गोभी, हरी सब्जियां और पीले फल खाना अच्छा होता है। इनमें विटामिन ए, सी और ई पर्याप्त मात्रा में होता है। इसके अतिरिक्त पपीता, संतरा, नींबू आदि के सेवन से भी आंखों की रोशनी बढ़ती है।

4. गाजर खाएं – गाजर विटामिन एक का भरपूर भंडार होता है। आंखों की रोशनी बढ़ाने में गाजर बेहद कारगर फूड है। हर रोज 1-2 गाजर चबा-चबाकर खाएं। अगर खाना पसंद न हो तो इसका रस निकालकर पिएं।

5. डाइट में शामिल करें सोया – सोया व इसके उत्पाद में बहुत कम फैट होता है। इसमें प्रोटीन की अच्छी मात्रा में पाई जाती है। यह आंखों के अच्छे स्वास्थ्य के लिहाज से जरूरी होता है। इसमें फैटी एसिड, विटामिन ई सहित अनेक पोषक तत्व पाए जाते हैं।


Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App