ताज़ा खबर
 

यूरिक एसिड के मरीज इस डाइट चार्ट को करें फॉलो, कंट्रोल करने में मिलेगी मदद

यूरिक एसिड को कंट्रोल करने के लिए डाइट का खास ध्यान रखने की जरूरत होती है। ऐसे में आप डाइट चार्ट फॉलो कर सकते हैं और यूरिक एसिड को शरीर में बढ़ने से रोक सकते हैं।

यूरिक एसिड कंट्रोल करने के लिए डाइट चार्ट फॉलो करें

शरीर में प्‍यूरिन नामक तत्व के टूटने से यूरिक एसिड बनने लगता है। प्‍यूरिन खाने की चीजों में पाया जाता है। प्यूरिन खाने के जरिए शरीर में पहुंचता है और फिर खून के माध्यम से किडनी में चला जाता है। आमतौर पर यह पेशाब के जरिए शरीर से बाहर निकल जाता है। लेकिन कई बार ऐसा नहीं हो पाता है, जिससे शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ने लगती है। यूरिक एसिड बढ़ने के कारण गाउट की समस्या भी हो सकती है जिसके कारण जोड़ों में दर्द और सूजन बढ़ जाता है। यूरिक एसिड को कंट्रोल करने के लिए डाइट का खास ध्यान रखने की जरूरत होती है। ऐसे में आप डाइट चार्ट फॉलो कर सकते हैं और यूरिक एसिड को शरीर में बढ़ने से रोक सकते हैं। इस डाइट चार्ट को करें फॉलो-

नाश्ते से पहले (7:00-7:30 am): हल्के गुनगुने पानी में सेब का सिरका मिलाकर पिएं।

नाश्ता (8:15- 8:45 के बीच): सफेद ब्रेड के साथ पीनट बटर और ब्लूबेरी खाएं और साथ में एक कप चकोतरा का जूस या फिर नींबू पानी पिएं

मिड मॉर्निंग स्नैक्स (सुबह 10:30 – 11:00 बजे के बीच): आधा कप चेरी खाएं

लंच (दोपहर 12:30 से 1:00 के बीच): हरी पत्तेदार सब्जियों का सलाद खाएं या फिर उबले हुए काबुली चने की सलाद के साथ रोटी या फिर चावल जरूर लें।

शाम का नाश्ता (4:00 से 4:30 बजे के बीच): एक कप ग्रीन-टी या फिर अनानास का जूस पिएं

डिनर (रात को 7.00 से 8 बजे के बीच): रात के खाने में पालक का पास्ता खाएं। साथ में कार्बोहाइड्रेट युक्त खाद्य पदार्थ जैसे – डेयरी प्रोडक्ट, फल व बीन्स आदि का सेवन भी करें।

यूरिक एसिड कंट्रोल करने के लिए कुछ और डाइट टिप्स:
– पर्याप्त मात्रा में पानी पिएं। रोजाना कम से कम 2-3 लीटर पानी पिएं।
– एल्कोहल या धूम्रपान करने से बचें।
– नियमित रूप से योग और एक्सरसाइज करें। ध्यान रहे अपने डॉक्टर से जरूर संपर्क करें।
– ज्यादा देर भूखे न रहें और डाइटिंग करने से बचें, बल्कि पोषक तत्व युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन करें।

यूरिक एसिड ब्लड टेस्ट क्यों किया जाता है? यदि किसी व्यक्ति के शरीर में हाई यूरिक एसिड लेवल का पता चला है या गाउट के लक्षण होने का संदेह है, तो यूरिक एसिड ब्लड टेस्ट कराने की सलाह दी जा सकती। इसके अलावा, कीमोथेरेपी या रेडिएशन थरेपी से गुजरने वाले कैंसर रोगियों को अक्सर इस टेस्ट को कराने के निर्देश दिए जाते हैं ताकि सुरक्षा की दृष्टि से यूरिक एसिड के लेवल को कंट्रोल में रखा जाए।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 आरोग्य सेतु ऐप नहीं तो छोड़नी पड़ेगी फ्लाइट, 4 फिट की दूरी जरूरी, पढ़ें- AAI की पूरी गाइडलाइन
2 Uric Acid: ये 5 फूड्स बढ़ाते हैं यूरिक एसिड, जानिए किन चीजों को खाने से होगा कंट्रोल
3 Covid 19: IIT Delhi का दावा- कोरोना के इलाज में अश्वगंधा कारगर, जानिये