ताज़ा खबर
 

यूरिक एसिड कंट्रोल करने के लिए डेली रूटीन में करें ये बदलाव, जल्द हो सकता है फायदा

यूरिक एसिड के पेशेंट को सीने में जलन, अपच और मूत्राशय मेें जलन आदि की समस्याएं झेलनी पड़ सकती हैं। ऐसे में यूरिक एसिड के मरीजों के लिए यह बहुत जरूरी हो जाता है कि वह डेली रूटीन में बदलाव लाकर इससे उबरने की कोशिश करें।

uric acid, uric acid patients, uric acid dosयूरिक एसिड के मरीजों को जोड़ों में दर्द की समस्या झेलनी पड़ती हैं।

Uric Acid Patients Daily Routine: यूरिक एसिड के मरीज अक्सर इसे कंट्रोल करने के लिए परेशान रहते हैं क्योंकि शरीर में हाई यूरिक एसिड बनने की वजह से यूरिक एसिड के मरीजों को कई परेशानियों का सामना करना पड़ता है।

इस बीमारी में शरीर के अपशिष्ट पूरी तरह से बाहर ना निकल पाने के साथ ही शरीर में एसिड बनने लगता है जिसकी वजह से सीने में जलन, अपच और मूत्राशय मेें जलन आदि की समस्याएं झेलनी पड़ती हैं। ऐसे में यूरिक एसिड के मरीजों के लिए यह बहुत जरूरी हो जाता है कि वह डेली रूटीन में बदलाव लाकर इससे उबरने की कोशिश करें।

खूब पानी पीने से हो सकता है फायदा – यूरिक एसिड के मरीजों को शरीर से अपशिष्ट निकालने में दिक्कत होती है ऐसे में ज्यादा पानी पीने से उन्हें फायदा हो सकता है। अगर आपको हाई यूरिक एसिड की प्रॉब्लम रहती है तो कोशिश करें कि लगभग हर एक घंटे में एक बड़ा गिलास पानी जरूर पीएं। ऐसा करने से आपके शरीर में पानी की सही मात्रा बनी रहेगी इससे आपका यूरिक एसिड भी कंट्रोल हो सकता है।

स्ट्रेस फ्री जीवन जीना है जरूरी – यूरिक एसिड के मरीजों को यह कोशिश करनी चाहिए कि वह तनाव मुक्त जीवन जीएं क्योंकि स्ट्रेस की वजह से यूरिक एसिड बढ़ सकता है। ऐसे में कोशिश करें कि कैफीन वाले खाद्य पदार्थों का सेवन ना करें और घंटो स्क्रीन के सामने ना बैठें। अगर आपको स्क्रीन के सामने पूरा दिन बैठना पड़ता है तो समय-समय पर शरीर को आराम भी देते रहें।

नींद जरूर करें पूरी – एक सामान्य व्यक्ति को रोजाना 7 से 8 घंटे की नींद की जरूरत होती है। माना जाता है कि नींद पूरी ना होने पर शरीर से स्ट्रेस हॉर्मोन रिलीज हो सकते हैं जिससे शरीर में यूरिक एसिड के बढ़ने की संभावनाएं बढ़ जाती है। इसलिए यूरिक एसिड के मरीज इस बात का ध्यान रखें कि आप रोजाना पर्याप्त नींद लें और समय से सोएं और जागें।

फाइबर की मात्रा बढ़ाएं – शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ने पर इस बात का ध्यान रखें कि आप अपनी डाइट में ज्यादा-से-ज्यादा फाइबर शामिल करें। बताया जाता है कि ऐसी डाइट से शरीर के अपशिष्ट निकलने में मदद मिलती है जिससे यूरिक एसिड कंट्रोल में रह सकता है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 फैटी लिवर के मरीजों को इन फूड आइटम से करना चाहिए परहेज, जानें
2 ब्लड शुगर रोकने में रामबाण से कम नहीं प्याज का रस, जानिये इस्तेमाल का तरीका
3 क्यों सेहत का खजाना माने जाते हैं भीगे हुए बादाम, जानें क्या हैं फायदे और कैसे करना चाहिए सेवन
यह पढ़ा क्या?
X