ताज़ा खबर
 

Uric Acid: डार्क चॉकलेट का सेवन जोड़ों के दर्द से दिलाएगा छुटकारा, जानें कैसे करें इस्तेमाल

Uric Acid Home Remedies: डार्क चॉकलेट में थियोब्रोमाइन तत्व मौजूद होते हैं। ये शरीर में गठिया के क्रिस्टल को बनने से रोकते है।

Uric Acid, high uric acid problems, dark chocolate for high uric acid, uric acid home remediesकोको में फ्लेवनॉइड्स होते हैं, इनकी गिनती बेहद कारगर व असरदार एंटी-ऑक्सीडेंट्स के रूप में की जाती है

Uric Acid Home Remedies: यूरिक एसिड का स्तर बढ़ने से लोगों को कई परेशानियों का सामना करना पड़ता है। गंभीर मामलों में उठने-बैठने और चलने-फिरने में भी मुश्किल हो जाती है। आमतौर पर यूरिन के मार्ग से यूरिक एसिड शरीर से बाहर निकल जाता है। लेकिन कई बार आपका शरीर यूरिक एसिड की उतनी मात्रा नहीं निकाल पाता जितनी मात्रा शरीर से निकलनी चाहिए। तब यूरिक एसिड में मौजूद यूरेट क्रिस्टल आपके जोड़ों के आसपास जमा हो जाते हैं। इस स्थिति को गठिया या गाउट भी कहते हैं। यह आपके खून और यूरिन को और अधिक एसिडिक बनाता है। सिर्फ इतना ही नहीं, इसके कारण हाथ-पैर में असहनीय दर्द और सूजन हो सकती है।

यू.एस. नैशनल लाइब्रेरी ऑफ़ मेडिसिन की इकाई नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफॉर्मेशन में छपी रिसर्च के अनुसार डार्क चॉकलेट यूरेट क्रिस्टल को कम करने में बहुत सहायक है। साथ ही यह गठिया के दर्द से राहत दिलाने में भी मददगार है।

एंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर होते हैं डार्क चॉकलेट: कोको में फ्लेवनॉइड्स होते हैं, इनकी गिनती बेहद कारगर व असरदार एंटी-ऑक्सीडेंट्स के रूप में की जाती है। इसका सेवन गाठिया बीमारी को कम करता है, साथ ही दर्द और सूजन में भी राहत प्रदान करता है।

इसके अलावा, एंटी-ऑक्सीडेंट्स किडनी के कामकाज और स्वास्थ्य में भी सुधार करते हैं। बता दें कि हाई यूरिक एसिड के मरीजों की किडनी भी प्रभावित होती है जिसका असर उसकी कार्यक्षमता पर पड़ता है। चॉकलेट में मौजूद ल्यूकोटिएन गठिया की सूजन को कम करने में मदद करते हैं।

थियोब्रोमाइन यूरेट क्रिस्टल्स को कम करने में मददगार: डार्क चॉकलेट में थियोब्रोमाइन तत्व मौजूद होते हैं। ये शरीर में गठिया के क्रिस्टल को बनने से रोकते है। दरअसल चॉकलेट के सेवन से बॉडी में थियोब्रोमाइन की कॉन्सनट्रेशन बढ़ती है, इससे यूरेट क्रिस्टल फॉर्म होने से रोकने में मदद मिलती है। साथ ही, ये तत्व जोड़ों के दर्द और जलन से निजात दिलाने में भी कारगर है।

जान लीजिए इस्तेमाल का तरीका:  2 आउंस यानी 60 ग्राम की मात्रा के करीब डार्क चॉकलेट का सेवन रोजाना करने से मरीजों को लाभ मिलेगा। हालांकि, इस बात का ध्यान रखें कि व्हाइट या मिल्क चॉकलेट का इस्तेमाल न करें।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 इम्युनिटी मजबूत करने में मददगार साबित हो सकता है शिमला मिर्च, जानिए और किन बीमारियों के लिए है रामबाण
2 किस उम्र के बच्चों को मास्क पहनाना ज़रूरी और किसे नहीं? WHO ने बताया
3 बच्चों के ज्यादा गुस्सैल होने से हैं परेशान, ब्लड प्रेशर कराएं चेक – आंखों पर भी होता है असर
ये पढ़ा क्या?
X