Uric Acid को कंट्रोल करने में मददगार साबित हो सकता है बाबा रामदेव का ये टिप्स, जानिये

Uric Acid: शरीर में यूरिक एसिड बढ़ने के कारण पैरों की एड़ियों में दर्द हो सकता है। अगर समय रहते यूरिक एसिड को कंट्रोल नहीं किया गया तो किडनी भी फेल हो सकती है।

baba ramdev share usefull tips for weight loss
बाबा रामदेव (Photo-Indian Express)

किडनी को शरीर का इंजन कहा जाता है। अगर किडनी में कोई खराबी आ जाये तो शरीर का संतुलन बिगड़ जाता है। अपनी दैनिक दिनचर्या में हम जो भी कुछ भी खाते या पीते हैं किडनी उनको छानने का काम करती है। इसलिए अगर आपको पेशाब करने में दिक्कत महसूस हो रही हो या जल्दी थकावट लगने लगे और चेहरे व पैरों में सूजन रहती है तो ये सभी आपकी किडनी खराब होने की तरफ इशारा करती हैं।

स्वास्थ्य विशेषज्ञों के मुताबिक किडनी से जुड़ी दिक्कतों के पीछे गलत लाइफस्टाइल और खानपान एक मुख्य वजह है। वहीं योग गुरु बाबा रामदेव के मुताबिक योग व आयुर्वेद के जरिए किडनी को फेल होने से बचाया जा सकता है। यूं तो किडनी यूरिक एसिड को फिल्टर कर मूत्र मार्ग के जरिए शरीर से बाहर निकाल देती है। लेकिन अगर बॉडी में इसकी मात्रा बढ़ जाए, तो यह जोड़ों के बीच में क्रिस्टल के रूप में जमा होने लगता है। इसके कारण कई तरह की खतरनाक बीमारियां भी हो सकती हैं, जिनमें मल्टीपल ऑर्गन फेलियर, किडनी फेलियर और दिल से संबंधित समस्याएं शामिल हैं।

किडनी मुख्य रूप से शरीर में खून को शुद्ध करने का कार्य करती है साथ ही पानी एवं क्षार का संतुलित कर यूरिन बनाने का कार्य भी करती है। आसान शब्दों में कहें तो किडनी शरीर में एक फिल्टर की तरह काम करती है। व्यक्ति के अच्छे स्वास्थ के लिए किडनी का स्वस्थ होना बेहद ज़रूरी है। स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार कैंसर की तरह किडनी की बीमारी भी व्यक्ति को उसके शुरुआती लक्षणों से पता नहीं चलती है। कई बार पता चलने तक बहुत देर हो चुकी होती है। जब तक इस समस्या का पता चलता है तब तक किडनी डैमेज हो चुकी होती है।

इन योगासनों के जरिये करें कंट्रोल: योग गुरु बाबा रामदेव के मुताबिक किडनी को स्वस्थ रखने के लिए मंडूकासन, शशकासन, मुद्रासन, भुजंगासन काफी मददगार हैं। इनके माध्यम से किडनी को स्वस्थ रखा जा सकता है। साथ ही इस योगासन के माध्यम से इम्युनिटी भी बढ़ाई जा सकती है। साथ ही पाचन तंत्र भी सही रहता है। इसी तरह नौकासन से भी रोगों से लड़ने की शक्ति मिलती है और फेकड़ा स्वस्थ रहता है। इसके आलावा कपालभाति और अनुलोम विलोम, त्रिकोणासन, शलभासन, कटिचक्रासन, पश्चिमोत्तासन, वक्रासन, मर्कटासन और सूर्य नमस्कार भी लाभदायक हैं।

खानपान का ध्यान: किडनी से जुड़ी बीमारियों में व्यक्ति को अपने खानपान का विशेष ख्याल रखना चाहिए। बाबा रामदेव के मुताबिक भुट्टा यानि मक्का और जामुन को अपनी डाइट में शामिल करना चाहिए। यह किडनी के लिए बहुत फायदेमंद होता है। इसके आलावा यूरिन सम्बंधित समस्याओं से बचने के लिए के लिए अनानास, चेरी, गाजर, अंगूर, तरबूज, नारियल पानी, आलू, तरोई, टिंडे को भी डाइट में शामिल किया जा सकता है।

पढें हेल्थ समाचार (Healthhindi News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट