ताज़ा खबर
 

जोड़ों में रहता है दर्द, कहीं अर्थराइटिस तो नहीं? घर बैठे ऐसे लगाएं पता…

Tips for Arthritis Patients: हेल्थ एक्सपर्ट्स के अनुसार गठिया के शुरुआती चरणों में अपनी जीवन-शैली में बदलाव लाकर और दवाइयों के नियमित सेवन से मरीजों की हालत सुधर सकती है

Arthritis, Arthritis Pain, Tips for Arthritis Patients, Arthritis symptoms, Arthritis test, Arthritis Home Remedies, knee pain, knee pain in hindi, knee pain reason, knee pain exercise, knee pain while running, knee osteoarthritis, Arthritis cure, Arthritis yoga, Arthritis diet, Arthritis knee pain, ghutne me dard ka ilaj, ghutne me sujan, ghutne me pain, ghutne me dard, ghutne me dard hona, ghutne me dard ka gharelu upchar, Arthritis home remedies in hindiअगर इस बीमारी का पता समय पर लग जाए तो मरीजों की स्थिति में सुधार लाया जा सकता है

Tips for Arthritis Patients: शारीरिक असक्रियता व अनहेल्दी खानपान के कारण बढ़ती उम्र की बीमारियों से आज के युवा भी घिर रहे हैं। अर्थराइटिस भी ऐसी ही एक बीमारी है जिसमें मरीजों को जोड़ों और घुटनों में असहनीय दर्द होता है।  हेल्थ एक्सपर्ट्स के अनुसार अगर इस बीमारी का पता समय पर लग जाए तो मरीजों की स्थिति में सुधार लाया जा सकता है। वहीं, लापरवाही के कारण ये आम समस्या गंभीर रूप ले सकती है, जिनका खामियाजा लोगों को भुगतना पड़ता है। ऐसे में आइए जानते हैं कि घर बैठे किन लक्षणों को देखकर गठिया यानि कि अर्थराइटिस का पता लगाया जा सकता है-

ये हैं अर्थराइटिस के लक्षण: गठिया के मरीजों को बार-बार बुखार हो सकता है। इसके अलावा, जरा सा काम करने पर थकान महसूस करना और शरीर के जोड़ों में दर्द रहना भी अर्थराइटिस बीमारी का एक लक्षण है। सुबह के समय अगर आपको उठने में दिक्कत का सामना करना पड़ता है या फिर हर वक्त मांसपेशियों में दर्द हो तो भी डॉक्टर से परामर्श लेने की सलाह दी जाती है। इसके अलावा, जोड़ों में जिस-जिस जगह पर दर्द होता है वहां सूजन होना भी इसी बीमारी का एक लक्षण है। वहीं, इस बीमारी में मरीजों का शरीर गर्म हो जाता है और कई जगहों पर चकते भी निकल आते हैं।

इन जांचों से लगाएं पता: अगर आपके जोड़ों में असहनीय दर्द है तो आप डॉक्टर से जरूर सलाह लें। वो फिजिकली या फिर जांच के माध्यम से अर्थराइटिस बीमारी का पता लगा सकते हैं। कई बार जिस जगह पर अत्यधिक दर्द या फिर सूजन हो, चिकित्सक उस जगह का एक्सरे कराने की सलाह देते हैं। वहीं, अगर आपके शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा अधिक हो तो भी आप गठिया बीमारी से पीड़ित हो सकते हैं। बॉडी में यूरिक एसिड के स्तर को जांचने के लिए डॉक्टर्स अलग टेस्ट कराने के लिए भी कह सकते हैं। इस जांच के माध्यम से जोड़ों में मौजूद साइनोवियल फ्लूइड निकाला जाता है जिससे जॉइंट्स में मोनोसोडियम युरेट क्रिस्टल का स्तर कितना है ये पता लगाया जा सके।

ऐसे करें बचाव: हेल्थ एक्सपर्ट्स के अनुसार इस बीमारी के शुरुआती चरणों में अपनी जीवन-शैली में बदलाव लाकर और दवाइयों के नियमित सेवन से मरीजों की हालत सुधर सकती है। अधिक वजनदार लोगों के शरीर का ज्यादा बोझ घुटनों व कुल्हों पर पड़ता है, ऐसे में वजन पर नियंत्रण रखना बहुत जरूरी है। समय पर दवा के साथ ही मरीजों के लिए एक्सरसाइज करना भी आवश्यक है। हेल्थ एक्सपर्ट्स गठिया के मरीजों को गुनगुने पानी से नहाने की भी सलाह देते हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 डायबिटीज के मरीज जरूर फॉलो करें ये डाइट प्लान, कंट्रोल करने में मिलेगी मदद
2 COVID-19: इम्युनिटी के लिए रामबाण है गिलोय लेकिन सही मात्रा भी जरूरी, जानिए हर दिन कब और कितने गिलोय का सेवन करना चाहिए
3 सिर्फ घुटनों में ही नहीं इन जगहों पर भी हो सकता है अर्थराइटिस, ऐसे करें पहचान
यह पढ़ा क्या?
X