ताज़ा खबर
 

डाइट में शामिल करें विटामिन-A से भरपूर ये फूड्स, प्रदूषण के असर को कम करने के साथ फेफड़ों की सेहत के लिए हैं रामबाण

Vitamin A Food Sources: फेफड़ों का एक काम ब्लड वेसल्स को ब्लड सर्कुलेट करना भी है, सांस फूलना या सांस लेने में तकलीफ फेफड़ों के अनफिट होने की ओर संकेत करता है

vitamin a, vitamin a deficiency, lungs disease, respiratory problems, healthy lungsडाइट में विटामिन ए से भरपूर खाद्य पदार्थों को शामिल करने से भी फेफड़े मजबूत होते हैं

Lungs Related Disease: धूल-मिट्टी, धुआं व प्रदूषण के कारण हवा की गुणवत्ता कई शहरों में बेहद खराब हो चुकी है। दिल्ली-पटना जैसे शहरों की एयर क्वालिटी अपने निम्न स्तर पर है। हवा की गुणवत्ता खराब होने से सांस लेने में भी परेशानी का सामना करना पड़ता है। इसके साथ ही, फेफड़े पर भी इसका असर पड़ता है। फेफड़े (Lungs) हमारे शरीर का वो अहम हिस्सा है जो सांस प्रणाली को बेहतर बनाने के लिए जिम्मेदार होता है। वहीं, इस साल में कोरोना वायरस के प्रकोप के चलते सांस संबंधी दिक्कतें होने पर लोगों को सबसे पहले संक्रमण का ही ख्याल आता है। ऐसे में फेफड़ों का ख्याल रखना बेहद जरूरी है। स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार डाइट में विटामिन ए से भरपूर खाद्य पदार्थों को शामिल करने से भी फेफड़े मजबूत होते हैं।

क्यों जरूरी है विटामिन ए: आंखों की रोशनी बढ़ाने के लिए विटामिन ए का सेवन कितना जरूरी है, इससे अधिकतर लोग परिचित हैं। ये न केवल नजरों को मजबूत करती है, बल्कि इम्युनिटी बढ़ाने, हड्डियों को कमजोर होने से बचाने में  भी मददगार हैं। इसके अलावा, विटामिन ए का ही एक स्वरूप होता है बीटा-कैरोटिन। ये तत्व कई प्रकार के कैंसर जैसे कि सर्वाइकल, फेफड़ों और ब्लैडर के कैंसर का खतरा कम करती है। वहीं, नाइट ब्लाइंडनेस यानी रतौंधी के मरीजों के लिए भी विटामिन ए से भरपूर खाद्य पदार्थों का सेवन लाभदायक होगा।

अंडा: अधिकतर लोग रोज अंडा खाने से इसलिए कतराते हैं क्योंकि अंडे की जर्दी में फैट की मात्रा होती है। हालांकि, अंडे के सफेद व पीले हिस्से दोनों में ही विटामिन ए मौजूद होता है। ऐसे में सीमित मात्रा में पूरा अंडा खाएं।

मटर: न केवल स्वाद में बल्कि सेहत से भी मटर का सेवन फायदेमंद है। सर्दियों के मौसम में मटर की डिमांड भी बढ़ जाती है। प्रदूषण से फेफड़ों पर पड़ने वाले असर को कम करने में मटर अहम भूमिका निभाता है। बता दें कि इस हरी सब्जी में विटामिन ए प्रचुर मात्रा में मौजूद होता है।

गाजर: एक अध्ययन के अनुसार 100 ग्राम गाजर में करीब 8840 माइक्रोग्राम्स विटामिन ए पाया जाता है। लोग चाहें तो गाजर का जूस, सलाद, हलवा या फिर सैंडविच में इसे डालकर सेवन करें।

मछली: विटामिन ए एक ऐसा पोषक तत्व है जिसे शाकाहारी और मांसाहारी दोनों अपने भोजन से पा सकते हैं। हल्के व स्वाद से भरपूर मछलियां विटामिन ए का बेहतरीन स्रोत माना जाता है। आप इन्हें ग्रिल करके, भुनकर या फिर स्टीम कर खा सकते हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 डायबिटीज के मरीजों में 2 से 4 गुना बढ़ जाता है हार्ट डिजीज का खतरा, जानें किन बातों का रखें ध्यान
2 सर्दी, खांसी और जुखाम से बचने के लिए इन प्राकृतिक उपायों को माना जाता है कारगर, जानें
3 यूरिक एसिड कंट्रोल करने के लिए डेली रूटीन में करें ये बदलाव, जल्द हो सकता है फायदा
यह पढ़ा क्या?
X