ताज़ा खबर
 

नए साल में नहीं होगी कमजोर इम्युनिटी की शिकायत, बस ध्यान में रखें ये जरूरी बातें

Immunity Booster Food: वायरल इंफेक्शन का खतरा कम करने में अदरक और लहसुन का इस्तेमाल भी कारगर है

COVID-19, Coronavirus, winter foods, Coronavirus ka ilaaj, immunity booster foodsजो लोग गंभीर सर्दी-जुकाम से पीड़ित हैं, उन्हें रोज सुबह कच्चे लहसुन का सेवन करना चाहिए

Immunity Boosting Tips: साल 2020 खत्म होने को है, ये साल कोरोना वायरस के भेंट चढ़ गया। जहां शुरुआत में इसके बारे कोई जानकारी का न होना लोगों के परेशानी का सबब था, वहीं समाप्त होते-होते वायरस के नए स्ट्रेन ने सिर दर्दी बढ़ा दी है। ‘इयर इन सर्च 2020’ की सूची के अनुसार इस साल के सबसे ज्यादा इंटरनेट पर खोजे गए शब्दों में से एक इम्युनिटी है।

हर कोई आज के समय में सेहतमंद व बीमारियों से दूर रहना चाहता है। जनवरी आते-आते ठंड का प्रकोप भी बढ़ेगा, ऐसे में कमजोर इम्युनिटी के लोगों को अपना खास ख्याल रखने की जरूरत है। स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार इम्युनिटी बढ़ाने के जरूरी टिप्स को फॉलो करना फायदेमंद साबित होगा।

डाइट में प्रोटीन करें शामिल: न्यूट्रिशन एक्सपर्ट्स का मानना है कि प्रोटीन में मौजूद अमीनो एसिड्स शरीर में एंटीबॉडीज का उत्पादन करता है। ये एंटीबॉडीज लोगों को कई संक्रमण और एलर्जी से बचाव करने में मददगार है।

अदरक और लहसुन: वायरल इंफेक्शन का खतरा कम करने में अदरक और लहसुन का इस्तेमाल भी कारगर है। अदरक में प्राकृतिक एंटी-इंफ्लेमेट्री गुण पाए जाते हैं जो बीमारियों से दूर रखने में मददगार होता है। वहीं, लहसुन भी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में फायदेमंद है। इसके सेवन से सर्दी में खांसी-जुकाम की परेशानी भी दूर होती है। स्वास्थ्य विशेषज्ञों के मुताबिक जो लोग गंभीर सर्दी-जुकाम से पीड़ित हैं, उन्हें रोज सुबह कच्चे लहसुन का सेवन करना चाहिए।

अश्वगंधा और गिलोय: नैशनल कॉलेज ऑफ नैचुरल मेडिसिन की एक अध्ययन के मुताबिक अश्वगंधा में इम्युनोलॉजिक प्रभाव होता है जो इम्युनिटी बूस्ट करने में मददगार है। वहीं, गिलोय में एंटी-ऑक्सीडेंट्स पाए जाते हैं जो बेहतर इम्युनिटी के लिए आवश्यक हैं। ये शरीर को फ्री रैडिकल्स से लड़ने की ताकत प्रदान करते हैं।

विटामिन-सी: इम्युनिटी बढ़ाने में विटामिन-सी की भूमिका भी बेहद अहम होती है। इसके सेवन से रोग प्रतिरोधक क्षमता बेहतर होती है और संक्रमण का खतरा कम होता है। ये शरीर में मौजूद विषैले पदार्थों को बाहर निकालने में कारगर है।

पर्याप्त नींद है जरूरी: जब आपका शरीर थका हुआ होता है तो पैथोजेंस के हमला करने का खतरा ज्यादा हो जाता है। इसलिए पर्याप्त नींद जरूरी है ताकि शरीर में T सेल्स एक्टिव हो जाते हैं जो पैथोजेंस से लड़ने में कारगर है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 सर्दियों में कैसा होना चाहिए हाई ब्लड शुगर पेशेंट का डाइट, जानें डायबिटीज रोगी क्या खाएं और क्या नहीं
2 घर पर बैठे कैसे करें ब्लड शुगर की जांच? डायबिटीज के मरीज जानें ये जरूरी बात
3 लो ब्लड प्रेशर के मरीज अदरक खाने से करें परहेज, जानें क्या हैं साइड इफेक्ट्स
ये पढ़ा क्या ?
X