Lungs Exercise: फेफड़ों को मजबूत बनाने में कारगर हैं ये योगासन, ऑक्सीजन लेवल को भी रखते हैं नियंत्रित

फेफड़ों और दिल की ब्लॉक्ड नसों को खोलने में भुजंगासन काफी कारगर है। यह फेफड़ों को मजबूत रखने के साथ ही किडनी और लिवर को भी हेल्दी रखते हैं।

Coronavirus, healthy lungs, corona, covid 19, pneumoniaहेल्थ एक्सपर्ट्स का मानना है कि विटामिन युक्त फूड्स के सेवन से फेफड़े मजबूत रहते हैं

कोरोनावायरस का सबसे ज्यादा असर फेफड़ों पर पड़ता है। क्योंकि, यह संक्रमण रेस्पिरेटरी सिस्टम से जुड़ा है। ऐसे में अपने फेफड़ों को स्वस्थ रखना बेहद ही जरूरी है। फेफड़े शरीर को शुद्ध ऑक्सीजन देने का काम करता है, यह शरीर के हर हिस्सों में ऑक्सीजन पहुंचाते हैं। ऐसे में अपने फेफड़ों को मजबूत करने के लिए लंग एक्सरसाइज की मदद ले सकते हैं। यह फेफड़ों में वायुप्रवाह और ऑक्सीजन लेवल को मैनेज करने में कारगर हैं।

आज की खराब लाइफस्टाइल, खानपान और प्रदूषण के कारण फेफड़े अनहेल्दी होते जा रहे हैं। एक रिपोर्ट के अनुसार तो भारत में जितने भी लोग कैंसर की बीमारी से जूझ रहे हैं, उनमें से 25 प्रतिशत लोग लंग कैंसर से पीड़ित हैं। फेफड़ों में इंफेक्शन होने के कारण अस्थमा, ब्रोन्काइटिस और टीबी जैसी कई खतरनाक बीमारियां हो सकती हैं। ऐसे में आप अपने फेफड़ों को मजबूत रखने के लिए इन योगासन का सहारा ले सकते हैं।

योग गुरु स्वामी रामदेव के अनुसार भस्त्रिका, कपालभाति, उद्गीथ और अनुलोम-विलोम के अलावा मंडूकासन, त्रिकोणासन, नौकासन जैसे योगाभ्यास फेफड़ों को मजबूत करने में कारगर हैं।

-कपालभाति: शरीर में ऑक्सीजन की मात्रा को बनाए रखने के लिए कपालभाति काफी कारगर है। क्योंकि, यह सांस से जुड़ा योगाभ्यास है। यह फेफड़ों को मजबूत करने के साथ ही वजन घटाने में भी कारगर है। इसके अलावा कपालभाति का रोजाना अभ्यास करने से ब्रोन्काइटिस और निमोनिया जैसी बीमारियां कोसों दूर रहती हैं।

-त्रिकोणासन: त्रिकोणासन फेफड़ों को मजबूत कर रेस्पिरेटरी सिस्टम को मजबूत करता है। इस योगासन से ना सिर्फ फेफड़े बल्कि, गर्दन, पीठ और कमर भी मजबूत बनती है। यह आपकी पाचन क्रिया को दुरुस्त रखने में भी मदद करता है।

-भुजंगासन: फेफड़ों और दिल की ब्लॉक्ड नसों को खोलने में भुजंगासन काफी कारगर है। यह फेफड़ों को मजबूत रखने के साथ ही किडनी और लिवर को भी हेल्दी रखते हैं। भुजंगासन शरीर की चयापचय क्रिया को भी दुरुस्त रखता है। ऐसे में भुजंगासन का रोजाना अभ्यास करना चाहिए।

-अनुलोम-विलोम: फेफड़ों को मजबूत करने के लिए अनुलोम-विलोम काफी कारगर है। इस प्राणायाम को करने से त्वचा संबंधी सभी प्रकार की समस्याएं दूर हो सकती हैं। साथ ही यह डायबिटीज वाले मरीजों का शुगर लेवल नियंत्रित रखने में भी मदद करता है।

Next Stories
1 Weight Loss Tips: पेटी की चर्बी से निजात पाने के लिए अपने रूटीन में इन चीजों को करें शामिल, मिल सकता है फायदा
2 यूरिक एसिड को कम करने में कारगर है व्हीटग्रास, इस तरह करें अपनी डाइट में शामिल
3 शरीर के इन अंगों को नुकसान पहुंचाता है हाई ब्लड शुगर लेवल, जानिये
यह पढ़ा क्या?
X