ताज़ा खबर
 

स्वस्थ आंखों के लिए डाइट में शामिल कीजिए ये आहार, बढ़ेगी आंखों की रोशनी

हम चाहे जो भी चीज खाते हों उसका सीधा असर हमारी आंखों की सेहत पर पड़ता है। इसलिए अगर हम अपनी डाइट में ऐसे आहारों को शामिल करें जो हमारी आंखों को उचित पोषण दे सकें तो तो आगे आंखों पर बढ़ती उम्र के कारण होने वाले असर को भी कम कर सकते हैं।

vitamins for eyes, eyesight increase tips, eyesight, vitamins for eyesight, diet, good eyesight, diets for good eyesight, diets for improving eyesight, vitamin e, vitamin A, vitamin B2, Folic Acid, health news in hindi, jansattaप्रतिकात्मक फोटो।

आंखें हमारे शरीर का महत्वपूर्ण हिस्सा हैं। अगर आंखों की सेहत का ठीक तरह से ख्याल न रखा जाए तो कम उम्र में ही नजरों में दोष की समस्याएं सामने आने लगती हैं। ऐसे में नजर का चश्मा लगना मजबूरी हो जाती है। अगर अपने नियमित के खान-पान पर थोड़ा सा ध्यान रख लें तो शायद चश्मा लगाने की नौबत न आए। हम चाहे जो भी चीज खाते हों उसका सीधा असर हमारी आंखों की सेहत पर पड़ता है। इसलिए अगर हम अपनी डाइट में ऐसे आहारों को शामिल करें जो हमारी आंखों को उचित पोषण दे सकें तो तो आगे आंखों पर बढ़ती उम्र के कारण होने वाले असर को भी कम कर सकते हैं। साथ ही साथ नजरदोष, मोतियाबिंद आदि आंखों की बीमारियों से भी बच सकते हैं।

विटामिन ए – यह आंखों के लिए सबसे महत्वपूर्ण विटामिन होता है। इसमें भरपूर मात्रा में एंटी-ऑक्सीडेंट्स पाए जाते हैं जो हमारी आंखों, हड्डियों और प्रतिरक्षा तंत्र के लिए काफी लाभदायक होते हैं। विटामिन ए हमारी आंखों की ऊपरी परत कार्निया की सुरक्षा करती है तथा आंखों की रौशनी बढ़ाने में भी मददगार होती है। संतरे, पालक, धनिया की पत्ती, पुदीना, मेथी, कद्दू और गाजर आंखों के लिए पोषण प्रदान करने वाले आहार होते हैं।

विटामिन सी – विटामिन सी शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट्स का भरपूर भंडार होता है। यह रक्त प्रवाह को बेहतर बनाने के लिए जाना जाता है। रेटिना में रक्त का प्रवाह सुगम करने के लिए विटामिन सी का सेवन करना फायदेमंद होता है। कई तरह के शोधों से यह बात प्रमाणित हो चुकी है कि विटामिन सी का सेवन मोतियाबिंद और अंधेपन को रोकने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। बंदगोभी, धनिया की पत्ती, शिमला मिर्च, हरी मिर्च, अमरूद और आंवला विटामिन सी के महत्वपूर्ण स्रोत होते हैं।

फोलिक एसिड – फोलिक एसिड नई कोशिकाओं का निर्माण करने में काफी लाभकारी होता है। इसकी कमी की वजह से एनीमिया होने की संभावना काफी बढ़ जाती है। साथ ही साथ आंखों से संबंधित नसों में विकार उत्पन्न होने का खतरा भी बढ़ जाता है। हरी पत्तेदार सब्जियां, पुदीना, पालक, अखरोट आदि फोलिक एसिड के महत्वपूर्ण स्रोत होते हैं।

विटामिन ई – विटामिन ई हमारी आंखों और रेटिना पर पाया जाता है। इसकी कमी की वजह से मोतियाबिंद होने का खतरा बढ़ जाता है। वनस्पति तेलों, अनाजों, बादाम और सूरजमुखी के बीजों में विटामिन ई की काफी मात्रा पाई जाती है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 अस्थमा और दिल की बीमारियों का बेहतरीन उपचार हैं पीपल के पत्ते, जानिए और क्या हैं फायदे
2 नवरात्रि 2017: व्रत में साबूदाना खाने से पहले उसकी हकीकत जान लीजिए
3 हरी प्याज और शहद दिलाएंगे पीरियड्स के दर्द से छुटकारा, ऐसे करें इस्तेमाल
ये पढ़ा क्या?
X