ताज़ा खबर
 

बदलते मौसम की बीमारियों को बचाए रख सकते हैं ये घरेलू उपाय

सर्दी-जुकाम की समस्या से छुटकारा पाने के लिए आप कुछ आसान घरेलू उपचारों की मदद ले सकते हैं। ये उपचार आपको और भी कई स्वास्थ्य लाभ प्रदान करते हैं।

Author October 18, 2018 12:04 PM
सर्दी-जुकाम से राहत पाने के लिए आसान उपाय

बदलते मौसम के कारण कई लोगों को सर्दी-जुकाम जैसी वायरल बीमारी का सामना करना पड़ता है। सर्दी-जुकाम के कारण शरीर में दर्द, बुखार, ठंडा लगना और नाक बंद जैसी समस्या होती है। इन समस्याओं के कारण लोगों को असहजता महसूस होती है। सर्दी-जुकाम के लिए आप कुछ आसान घरेलू उपचारों की मदद ले सकते हैं, लेकिन यदि आपकी यह समस्या एक सप्ताह तक ठीक नहीं होती है तो आपको डॉक्टर से संपर्क करने की आवश्यकता है। यदि आपको सांस लेने में समस्या हो रही है, दिल की धड़कनें तेज हो जा रही हैं, बेहोश हो जा रहे हैं या फिर और भी कोई अन्य घातक लक्षण दिख रहे हैं तो आपको जल्द से जल्द मेडिकल ट्रीटमेंट ले लेनी चाहिए वरना यह आपके लिए घातक साबित हो सकता है।

अदरक:
अदरक में एंटीऑक्सीडेंट और एंटी-इंफ्लेमेट्री गुण होता है जो आपके बलगम को कम करता है और गले में हो रहे दर्द से भी राहत प्रदान दिलाता है। अदरक में क्यूरेटिव इफेक्ट होता है जो सर्दी-जुकाम के अन्य लक्षण को भी कम करता है।

शहद:
शहद में एंटीबैक्टीरियल और एंटीमाइक्रोबियल गुण होता है जो गले के दर्द और सूजन से राहत दिलाता है। शहद जुकाम के कारण होने वाले नाक बंद को भी ठीक करता है। बच्चों को सोने से पहले 10 ग्राम शहद जरूर दें, ये सर्दी-जुकाम के लक्षणों को कम करता है।

लहसुन:
लहसुन में एलिसिन नामक एंटीमाइक्रोबियल गुण होता है जो बलगम को कम करता है और सर्दी-जुकाम के लक्षणों को कम करता है। इसलिए सर्दी-जुकाम के दौरान आप अपने खाने में लहसुन जरूर शामिल करें।

विटामिन-सी:
विटामिन-सी के कई स्वास्थ्य लाभ हैं। नींबू, संतरा, ग्रेपफ्रूट, हरी-सब्जियां और भी कई फल और सब्जियां विटामिन सी का एक अच्छा स्रोत हैं। गर्म चाय में नींबू और शहद मिलाकर सेवन करने से बलगम कम हो जाते हैं।

प्रोबायोटिक्स:
प्रोबायोटिक शरीर के अच्छे बैक्टीरिया और यीस्ट होते हैं जो आपके गट और इम्यून सिस्टम को स्वस्थ रखते हैं। प्रोबायोटिक्स आपको बीमार होने से बचाता है और रेस्पिरेट्री इंफेक्शन को भी कम करता है।

गरारे करें:
सर्दी-जुकाम की वजह से अक्सर लोगों को गले में दर्द और खराश जैसी समस्या रहती है, ऐसे में गरारा करना एक बेहतर विकल्प साबित हो सकता है। गरारा करने से आपके गले का दर्द, सूजन और कंजेशन कम हो जाता है जिससे आपकी समस्या कम होती है।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 नवरात्रि के बाद डायबिटीज के मरीजों को खान-पान में इन बातों को जरूर रखना होगा ध्यान
2 Global Hand Washing Day: जानिए कम से कम कितने देर तक हैंडवॉश करना है बेहद जरूरी
3 मोटापे से बढ़ता है कैंसर और डायबिटीज समेत इन बीमारियों का खतरा, जानिए कारण और बचाव के तरीके