ताज़ा खबर
 

कान में हो रहा तेज दर्द, इस्तेमाल करें ये घरेलू नुस्खे, तुरंत मिलेगी राहत

कानों में मैल जम जाने की वजह से, साइनस इंफेक्शन या फिर कैविटीज की वजह से कानों में दर्द की समस्या उत्पन्न होती है।

कान में किसी भी तरह का संक्रमण होने पर एंटी बायोटिक्स से परहेज करना चाहिए।

कान में दर्द काफी पीड़ादायक होता है। कानों में मैल जम जाने की वजह से, साइनस इंफेक्शन या फिर कैविटीज की वजह से कानों में दर्द की समस्या उत्पन्न होती है। कान का दर्द काफी असहनीय होता है। कभी-कभी कान दर्द की वजह से लोग बुखार से भी पीड़ित हो जाते हैं। इसके अलावा कान का दर्द बहरेपन का भी कारण बन सकता है। बच्चों में कान दर्द की समस्या खूब देखने को मिलती है। विशेषज्ञों का मानना है कि कान में किसी भी तरह का संक्रमण होने पर एंटी बायोटिक्स से परहेज करना चाहिए। ऐसा इसलिए क्योंकि ज्यादा एंटीबायोटिक्स का सेवन एंटीबायोटिक प्रतिरोधी संक्रमण का कारण हो सकता है।

कान दर्द से निजात पाने के लिए कई तरह के घरेलू नुस्खे प्रयोग में लाए जा सकते हैं। काम में अगर कैविटी की वजह से दर्द होता है तो आप डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं, लेकिन अगर यह दर्द किसी संक्रमण की वजह से है तो आप इसे घर पर ही ट्रीट कर सकते हैं। आज हम आपको कान दर्द के कुछ घरेलू उपायों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिनका इस्तेमाल आपके कान दर्द को प्राकृतिक उपचार देगा।

लहसुन – लहसुन का प्रयोग कर कान दर्द से आसानी से छुटकारा पाया जा सकता है। लहसुन की दो कलियों को कूटकर उन्हें 2 चम्मच सरसो के तेल में मिलाएं। इस मिश्रण को तब तक गर्म करें जब तक कि लहसुन पककर काला न हो जाए। अब इसे ठंडा कर कुछ बूंदे दर्द से प्रभावित कान में डालें। लहसुन दर्दनिवारक प्रवृत्ति का होता है। कुछ ही देर में आपको दर्द से राहत मिल जाएगा।

तुलसी के पत्ते का जूस – तुलसी के औषधीय गुणों के बारे में हम पहले से ही जानते हैं। दर्द के ईलाज के लिए भी यह एक महत्वपूर्ण औषधि है। इसकी पत्तियों को पीसकर उसका रस निकालकर कानों में डालें। कुछ ही देर में दर्द से निजात मिल जाएगा।

सरसो का तेल – सरसो का तेल कान के मैल को साफ करने की सर्वोत्तम औषधि है। इस तेल की दो-तीन बूंदों को दोनों कानों में बारी-बारी से डालें। एक कान में तेल डालने के बाद दूसरे कान में डालने से पहले 15 मिनट तक इंतजार करें। यह कान के मैल को बाहर लाने में मदद करता है।

नमक – नमक कान के लिए अद्भुत औषधि है। थोड़ा सा नमक लेकर उसे धीमी आंच पर गर्म करें। अब एक सूत की बत्ती इसमें भिगोकर प्रभावित कान में डालें और 10 मिनट तक यूं ही रहने दें। यह कान से मैल को बाहर निकालता है और सूजन कम करता है।

Next Stories
1 एनीमिया, पीलिया और एसीडिटी में बहुत लाभकारी है एलोवेरा जूस, जानें और फायदे
2 आयुर्वेद से दूर भगाएं हाई ब्लड प्रेशर की समस्या
3 एसीडिटी से चाहते हैं छुटकारा तो अपनाएं ये घरेलू नुस्खे
ये पढ़ा क्या?
X