इन 7 तरीकों से डायबिटीज टाइप 2 का खतरा हो सकता है कम, ट्राय करें ये उपाय

अच्छा खाना यानी डाइट में पोषक तत्वों से भरपूर फूड्स शामिल होने चाहिए

diabetes, diabetes cure, blood sugar
स्मोकर्स में टाइप 2 डायबिटीज से ग्रस्त होने का खतरा 30 से 40 फीसदी ज्यादा होता है

Diabetes Treatment: डायबिटीज एक खतरनाक बीमारी है जिससे ग्रस्त लोगों को स्वास्थ्य संबंधी कई बातों का ध्यान रखना होता है। ये बीमारी शरीर के कई अंगों को प्रभावित करती है, इससे पीड़ित मरीजों को दिल, किडनी, स्किन, आंखें और हार्ट से जुड़ी परेशानियां हो सकती हैं। ऐसे में इस बीमारी के विकसित होने की संभावना को कम करने के लिए लोगों को कुछ बातों का ध्यान रखना जरूरी होगा।

पोषण से भरपूर होनी चाहिए डाइट: अच्छा खाना यानी डाइट में पोषक तत्वों से भरपूर फूड्स शामिल होने चाहिए। सेंटर्स फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रीवेंशन के मुताबिक लोगों की थाली में फल, नॉन-स्टार्ची सब्जियां जैसे कि पालक, मशरूम, ब्रोकली और एस्पेरेगस शामिल करें। साथ ही, चिकेन, फिश, तोफू, ग्रीक यॉगर्ट, अंडा और पल्सेस खाना भी फायदेमंद होगा। वहीं, ओटमील, क्विनोआ और ब्राउन खाएं, साथ ही खूब पानी और दूसरे पेय पदार्थ लें।

मीठे ड्रिंक्स जैसे कि सोडा, सॉफ्ट ड्रिंक और फलों का रस पीने से बचें। साथ ही, फास्ट फूड, चिप्स, मिठाई, पैकेज्ड स्नैक्स, एल्कोहल और तले-भूने खाने से भी परहेज करें।

वजन पर रखें नियंत्रण: मोटापा और ब्लड शुगर के बीच सीधा संबंध होता है। एक्सपर्ट्स के मुताबिक प्री-डायबिटीज से ग्रस्त मरीज अगर अपना वजन पांच फीसदी तक भी कम करते हैं तो इससे लक्षण बिल्कुल ही कम हो जाएंगे। वजन घटाने के लिए लोगों को डाइट में कैलोरीज और फैट युक्त फूड्स को कम मात्रा में शामिल करना चाहिए। रोजाना नाश्ता करें, फिजिकली एक्टिव रहें और सप्ताह में 10 घंटे से ज्यादा टीवी नहीं देखें।

रेगुलर एक्सरसाइज: विशेषज्ञों के मुताबिक एक्सरसाइज करने से ओवरॉल हेल्थ बेहतर रहती है। सप्ताह में 5 दिन कम से कम रोज आधे घंटे व्यायाम करें। अपना फिटनेस गोल बनाकर लक्ष्य हासिल करें। बता दें कि व्यायाम करने से बॉडी सेल्स इंसुलिन को ठीक तरीके से रिस्पॉन्ड करते हैं।

सिगरेट पीने से बचें: हेल्थ एक्सपर्ट्स के मुताबिक नॉन-स्मोकर्स की तुलना में स्मोकर्स में टाइप 2 डायबिटीज से ग्रस्त होने का खतरा 30 से 40 फीसदी ज्यादा होता है। ऐसे में सिगरेट पीना मरीज जितना जल्दी छोड़ेंगे, उनके लिए उतना ही फायदेमंद होगा।

ब्लड प्रेशर पर रखें कंट्रोल: डायबिटीज के प्रमुख रिस्क फैक्टर्स में से एक है उच्च रक्तचाप की समस्या। एक एनालिसिस के मुताबिक हाई ब्लड प्रेशर से ग्रस्त मरीजों का ब्लड शुगर लेवल दूसरों से अधिक हो सकता है। हाई बीपी कंट्रोल करने में साबुत अनाज, फल-सब्जियां, दालचीनी, लौंग भी फायदेमंद होगा।

करें मेडिटेशन: 2018 की एक स्टडी के मुताबिक ब्लड शुगर कंट्रोल करने के लिए मेंटल हेल्थ बेहतर रहना आवश्यक होता है। स्ट्रेस डायबिटीज के खतरे को बढ़ाता है, योग तनाव दूर करने में लाभदायक हो सकता है। साथ ही, मेडिटेशन करके भी शरीर रिलैक्स होता है। इससे शरीर में इंसुलिन प्रोडक्शन बेहतर तरीके से होता है जिससे बॉडी में ग्लूकोज लेवल कंट्रोल में रहता है।


लाइफस्टाइल में लाएं बदलाव: सेंटर्स फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रीवेंशन के अनुसार लोगों को डायबिटीज के खतरे को कम करने के लिए लाइफस्टाइल में हेल्दी बदलाव करना चाहिए। सुबह समय पर उठें, खाने का टाइम फिक्स करें, टहलने जाएं।

पढें हेल्थ समाचार (Healthhindi News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट
X