शरीर में दिख रहे हैं अगर ये 6 बदलाव तो हो सकती है किडनी में स्टोन की परेशानी, जानिये

Kidney Stone Symptoms: पेट के निचले हिस्से में, साइड में या फिर कमर में दर्द किडनी में पथरी की ओर इशारा करता है

Kidney disease, Kidney Stone, Remedies for Kidney Stones, Kidney Stones symptoms
किडनी स्टोन के गंभीर मामलों में मरीज को फीवर, शरीर के निचले हिस्से में सूजन और थकान का सामना भी करना पड़ सकता है

Kidney Stone Symptoms: आज की बदलती जीवन शैली में बीमारियों से ग्रसित होना बहुत आम हो गया है। वहीं, जो लोग शारीरिक तौर पर सक्रिय रहते हैं वो अधिक समय तक निरोग रहते हैं। किडनी हमारे शरीर का दूसरा सबसे बड़ा अंग है जो शरीर में खून से टॉक्सिंस को बाहर निकालने में मदद करता है। किडनी में स्टोन से आज के समय में कई लोग पीड़ित हैं। अनहेल्दी लाइफस्टाइल के कारण युवा भी इस समस्या से परेशान नजर आते हैं। शरीर में पोटैशियम, प्रोटीन, सोडियम और शुगर की कमी के कारण किडनी में पथरी की समस्या हो जाती है। इसके अलावा डिहाइड्रेशन की वजह से भी किडनी में पथरी हो जाती है। हालांकि, अगर मरीज इन संकेतों को अनदेखा न करें तो इस बीमारी का पता समय पर लगा सकते हैं।

कमर में दर्द: यह किडनी स्टोन के सामान्य लक्षणों में से एक है। पेट के निचले हिस्से में, साइड में या फिर कमर में दर्द किडनी में पथरी की ओर इशारा करता है। जब कोई पत्थर गर्भाशय या मूत्राशय में कहीं फंस जाता है तो यह असहनीय दर्द का कारण बनता है। स्वास्थ्य विशेषज्ञ के अनुसार लोगों में ये गलत धारणा होती है कि बड़े साइज का पथरी ज्यादा कष्टदायक होता है जबकि असल में स्टोन जितना छोटा होता है, उतना ही अधिक दर्द होता है।

बार-बार बाथरूम जाना: आमतौर पर जब लोगों की किडनी में स्टोन हो जाता है तो वो एक बार में अपने ब्लैडर को क्लियर करने में सक्षम नहीं रह जाते हैं क्योंकि यूरिन करते समय उन्हें दर्द और जलन की शिकायत हो सकती है। यही वजह है कि लोगों को बार-बार बाथरूम जाना पड़ सकता है।

यूरिन में ब्लड आना: हालांकि, बेहद कम व गंभीर मामलों में ही ये देखने को मिलता है। पर इस कारण से लोगों के पेशाब का रंग बदलकर गुलाबी, भूरा या फिर लाल हो सकता है।

फीवर और थकान: किडनी स्टोन के गंभीर मामलों में मरीज को फीवर, शरीर के निचले हिस्से में सूजन और थकान का सामना भी करना पड़ सकता है।

पेशाब में बदबू आना: इसके अलावा, यूरिन में स्मेल आना भी किडनी स्टोन की ओर इशारा करता है। गुर्दे में पथरी होने पर UTI का खतरा होता है, जिसके कारण पेशाब करते समय बदबू आ सकती है।

वोमिटिंग: ज्यादातर लोग शुरुआत में दर्द को नजरअंदाज करते हैं। लेकिन दर्द बढ़ने के बढ़ने के कारण लोगों को उल्टी करने का मन कर सकता है। यही कारण है कि गुर्दे की पथरी के रोगियों में पुकिंग की घटना भी देखी जाती है। हेल्थ एक्सपर्ट्स के अनुसार कोई भी तीव्र दर्द हार्मोन को प्रेरित करता है जो आगे चलकर उल्टी का कारण बनता है। और जब दर्द कम हो जाता है, तो उल्टी संवेदना भी कम हो जाती है। लेकिन अगर लगातार उल्टी होती है तो यह किडनी फेलियर का संकेत भी हो सकता है।

पढें हेल्थ समाचार (Healthhindi News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट