ताज़ा खबर
 

वॉकिंग से लेकर कार्डियो तक, डायबिटीज के मरीजों के लिए फायदेमंद होंगे ये 4 व्यायाम

Tips for Diabetes Patients: वजन कंट्रोल करके ब्रिस्क वॉकिंग डायबिटीज के खतरे को कम करने में सहायक होता है

मधुमेह रोगियों को उठक-बैठक, घुटनों को ऊपर उठाने, स्टेप अप्स जैसे लो इंपैक्ट एक्सरसाइज भी करने चाहिए

Exercise for Diabetes: डायबिटीज के मरीजों की पूरी सेहत इस बीमारी से प्रभावित होती है, इस वजह से कभी आंखों में परेशानी तो कई बार स्किन प्रॉब्लम्स से जूझना पड़ सकता है। यही कारण है कि स्वास्थ्य विशेषज्ञ डायबिटीज के मरीजों को अपनी सेहत के प्रति बहुत ज्यादा सचेत रहने की सलाह देते हैं। ये बीमारी अस्वस्थ खानपान, शारीरिक असक्रियता, स्ट्रेस, धूम्रपान, आनुवांशिकता और मोटापा के कारण हो जाती है। एक्सपर्ट्स के अनुसार ब्लड शुगर को नियंत्रण में रखने के लिए दवाइयों के साथ अपनी जीवनशैली में बदलाव लाना भी आवश्यक है। बताया जाता है कि कई व्यायामों के जरिये भी रक्त शर्करा का स्तर नियंत्रित रह सकता है।

ब्रिस्क वॉकिंग: इस कोरोना काल में अक्सर लोग ये बहाना बनाते हैं कि सारे जिम बंद हैं तो एक्सरसाइज कैसे करें। हालांकि, फिजिकली फिट रहने के लिए आप जिम ही जाएं, ऐसा जरूरी नहीं है। आप किसी भी सुरक्षित स्थान पर कुछ देर के लिए टहल सकते हैं। स्वास्थ्य विशेषज्ञों का मानना है कि डायबिटीज के मरीजों के लिए ब्रिस्क वॉकिंग जैसे एरोबिक एक्सरसाइज फायदेमंद होंगे। इससे शुगर लेवल भी नियंत्रित रहता है।

ब्रिस्क वॉकिंग वजन कम करने में भी सहायक होता है, बता दें कि मोटापा डायबिटीज का प्रमुख कारक होता है। ऐसे में वजन कंट्रोल करके ये व्यायाम डायबिटीज के खतरे को भी कम करता है।

कार्डियो एक्सरसाइज: हेल्थ एक्सपर्ट्स मानते हैं कि कार्डियो एक्सरसाइज करने से दिल की धड़कन बेहतर होती है। इससे शरीर में ब्लड सर्कुलेशन और इंसुलिन का स्तर भी इंप्रूव होता है। साथ ही, शरीर में उच्च रक्त शर्करा का स्तर भी नियंत्रित रहता है। यही कारण है कि शुगर लेवल मैनेज करके ये एक्सरसाइज डायबिटीज से होने वाली परेशानियों को भी दूर करता है।

बताया जाता है कि ये व्यायाम शरीर से अतिरिक्त ग्लूकोज को बर्न करता है और इंसुलिन रेजिस्टेंस को कम करता है। ऐसे में डायबिटीज रोगी बर्पीज, वॉकिंग, डांसिंग, स्विमिंग और योग जैसे कार्डियो एक्सरसाइज कर सकते हैं।

स्ट्रेंथ ट्रेनिंग: ये एक्सरसाइज लोगों की ताकत को बढ़ाने के साथ ही डायबिटीज कंट्रोल करने में भी फायदेमंद है। स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार मधुमेह रोगी अगर स्ट्रेंथ ट्रेनिंग करते हैं तो इससे बॉडी इंसुलिन को रिस्पॉन्ड करेगी, साथ ही वजन कंट्रोल में रहेगा। इसके अलावा, ये एक्सरसाइज हार्ट डिजीज के खतरे को भी कम करता है।

लो इंपैक्ट एक्सरसाइज: मधुमेह रोगियों को उठक-बैठक, घुटनों को ऊपर उठाने, स्टेप अप्स जैसे लो इंपैक्ट एक्सरसाइज भी करने चाहिए।

Next Stories
1 सुबह के समय ज्यादा सिर दर्द हो सकता है ब्रेन ट्यूमर का लक्षण, जानें किन बातों का रखना चाहिए ध्यान
2 इन लोगों को नहीं पीना चाहिए लौकी का जूस, हो सकती हैं स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं
3 योग के जरिये कम हो सकती है फैटी लिवर की परेशानी, बाबा रामदेव से जानें कौन से आसन होंगे मददगार
आज का राशिफल
X