हाई ब्लड शुगर को कंट्रोल कर सकते हैं ये 3 सीड्स, इस तरह करें अपनी डाइट में शामिल

कद्दू के बीजों में एंटी-ऑक्सीडेंट, प्रोटीन और स्वस्थ फैट की अच्छी-खासी मात्रा होती है, जो भोजन के बाद रक्त शर्करा को नियंत्रित रखते हैं।

Blood Sugar Level, Diabetes, High Blood Sugar
Blood Sugar की जांच जरूरी (Photo- Indian Express)

डायबिटीज की बीमारी हर गुजरते साल के साथ बढ़ती जा रही है। बता दें कि जब पैन्क्रियाज इंसुलिन हार्मोन का उत्पादन कम या फिर बंद कर दे तो इसके कारण लोग डायबिटीज की चपेट में आ जाते हैं। इंसुलिन एक तरह का हार्मोन है, जो शुगर को एनर्जी में बदलता है। बॉडी में इंसुलिन प्रतिरोध के कारण टाइप-1 डायबिटीज, टाइप-2 डायबिटीज या फिर गैसटेशनल डायबिटीज का खतरा बढ़ जाता है। मधुमेह के कराण खून में शुगर का स्तर बढ़ जाता है, जो हमारे स्वास्थ्य के लिए हानिकारक साबित होता है।

एक्सपर्ट्स बताते हैं कि डायबिटीज होने का खतरा या फिर इसका प्रबंधन डाइट पर निर्भर करता है। ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल में रखने के लिए हाई प्रोटीन और कम कार्बोहाइड्रेट वाली डाइट का सेवन करने की सलाह दी जाती है। कुछ ऐसे सीड्स हैं, जिनके सेवन से रक्त शर्करा के स्तर को काबू करने में मदद मिलती है।

कद्दू के बीज: कद्दू के बीज खून में ग्लूकोज के स्तर को कंट्रोल करने में मदद करते हैं। भले ही कद्दू के बीजों में कार्बोहाइड्रेट की उच्च मात्रा हो, लेकिन यह रक्त शर्करा के स्तर को काबू रखने में मदद करता है। एक अध्ययन के अनुसार डायबिटीज के जिन मरीजों ने कद्दू के बीज और उसके अर्क का सेवन किया, उनका ब्लड शुगर लेवल बेहतर रहा।

कद्दू के बीजों में एंटी-ऑक्सीडेंट, प्रोटीन और स्वस्थ फैट की अच्छी-खासी मात्रा होती है, जो भोजन के बाद रक्त शर्करा का नियंत्रित रखते हैं। ऐसे में डायबिटीज के मरीज अपनी डाइट में कद्दू के बीजों को शामिल कर सकते हैं।

न्यूट्रिशनिस्ट बताते हैं कि 100 ग्राम कद्दू के बीज में करीब 18 ग्राम डाइटरी फाइबर्स मौजूद होते हैं। यह एक व्यक्ति की नियमित जरूरतों का लगभग 72 प्रतिशत हो सकता है। आप चाहें तो कद्दू के बीजों को सूखाकर उसका पाउडर बना लें। फिर दूध में मिलाकर सुबह के समय खाली पेट ही इसका सेवन करें।

इसके अलावा हेल्थ एक्सपर्ट्स का मानना है कि अलसी के बीज और चिया सीड्स भी इंसुलिन के स्तर को बेहतर करने में मदद करते हैं। ऐसे में डायबिटीज रोगी इनका भी सेवन कर सकते हैं।

पढें हेल्थ समाचार (Healthhindi News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट