Health Benefits Of Tamarind Leaves In Hindi: Tamarind Leaves May Cure Diabetese, malaria And Many Other Diseases - इमली के गूदों से कम नहीं इनकी पत्तियों के गुण, इन 5 बीमारियों से दिलाती हैं राहत - Jansatta
ताज़ा खबर
 

इमली के गूदों से कम नहीं इनकी पत्तियों के गुण, इन 5 बीमारियों से दिलाती हैं राहत

इमली के पत्ते कई तरह के गंभीर रोगों के इलाज में काम आते हैं। शुगर, डायबिटीज, मलेरिया और अल्सर जैसी समस्याएं इमली के पत्ते से सही की जा सकती हैं।

प्रतीकात्मक चित्र

इमली का खट्टा-मीठा स्वाद इसे खास बनाता है। चटनी बनाने के लिए या किसी भी खाने में खट्टा स्वाद लाने के लिए इसका प्रयोग किया जाता है। विटामिन सी, ई और बी का भरपूर स्रोत इमली में इसके अलावा फास्फोरस, आयरन, मैंगनीज और फाइबर जैसे पोशक तत्व भी पाए जाते हैं। शरीर की विभिन्न पोषण संबंधी आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए इमली इस्तेमाल में लाई जाती है। इमली के फल, छाल और पत्तों तक का औषधीय महत्व होता है। इमली के पत्ते कई तरह के गंभीर रोगों के इलाज में काम आते हैं। शुगर, डायबिटीज, मलेरिया और अल्सर जैसी समस्याएं इमली के पत्ते से सही की जा सकती हैं। तो चलिए, जानते हैं कि इमली के पत्ते के औषधीय गुण किन-किन रोगों के उपचार में काम आ सकते हैं।

मलेरिया – इमली के पत्ते मलेरिया को रोकने में काफी कारगर होते हैं। इमली की पत्तियों का अर्क प्लास्मिडियम फाल्सीपेरम के विकास को रोकता है जो मलेरिया का मुख्य कारण होता है।

स्कर्वी रोग के उपचार में – इमली की पत्तियों में पर्याप्त मात्रा में विटामिन सी पाया जाता है इसलिए यह स्कर्वी रोग के उपचार में काफी लाभकारी होता है। इमली के पत्तों में उच्च एस्कॉर्बिक एसिड सामग्री होती है, जो एंटी-स्कर्वी विटामिन के रूप में कार्य करती है।

एंटी-सेप्टिक गुणों से भरपूर – इमली के पत्ते एंटी-सेप्टिक गुणों से भरपूर होते हैं। इमली के पत्तों का रस घावों को जल्दी ठीक करने की क्षमता रखते हैं। इनके पत्तों का रस हर तरह के संक्रमण को रोकने में कारगर है। नई कोशिकाओं के निर्माण में भी इसकी अहम भूमिका होती है।

अल्सर में – इमली के पत्तों का रस अल्सर के लक्षणों से राहत देने में मदद करता है। अल्सर में होने वाले असहनीय दर्द से राहत दिलाने में इमली के पत्तियों के रस बेहद लाभकारी होते हैं।

डायबिटीज में – इमली की पत्तियां खाने से शरीर में शर्करा का स्तर नियंत्रित रहता है। इससे इंसुलिन की सेंसिटिविटी भी बढ़ जाती है। मधुमेह की बीमारी में यह बहुत लाभकारी है। पीलिया में इसका सेवन बहुत फायदेमंद होता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App