सुबह के समय खाली पेट इस तरह करें अलसी के बीज का सेवन, यूरिक एसिड रहेगा कंट्रोल

ब्लड में यूरिक एसिड का स्तर बढ़ने से यह क्रिस्टल्स के रूप में टूटकर हड्डियों के बीच इक्ठा हो जाता है, जिससे गाउट की स्थिति पैदा होती है।

Health News, Uric Acid, High Uric Acid
यूरिक एसिड बढ़ने से जोड़ों में दर्द और सूजन की समस्याएं होती हैं

यूरिक एसिड, प्यूरीन युक्त खाद्य पदार्थों के पचने से निकलने वाला एक नेचुरल वेस्ट प्रोडक्ट है। इन खाद्य पदार्थों में शामिल हैं, मीट, मांस, सूखे सेम की फलियां और बीयर आदि। बॉडी में कुछ सेल्स और भोजन के जरिए भी प्यूरीन नामक प्रोटीन बनता है, जिसके टूटने पर यूरिक एसिड प्रोड्यूस होता है। वैसे तो अधिकतर यूरिक एसिड किडनी द्वारा फिल्टर होने के बाद शरीर से फ्लश आउट हो जाता है, लेकिन यदि आप भोजन में अधिक प्यूरीन का सेवन करते हैं या फिर आपका शरीर तेजी से यूरिक एसिड को निकाल नहीं पाता तो यह खून में इक्ट्ठा होने लगता है।

ब्लड में यूरिक एसिड का स्तर बढ़ने से यह क्रिस्टल्स के रूप में टूटकर हड्डियों के बीच इक्ट्ठा हो जाता है, जिससे गाउट की स्थिति पैदा होती है। इस स्थिति में आपका खून और पेशाब एसिडिक बन सकता है। बॉडी में यूरिक एसिड का स्तर बढ़ने को हाइपरयूरिसीमिया कहा जाता है। स्वास्थ्य विशेषज्ञ यूरिक एसिड के मरीजों को अपने खानपान का विशेष रूप से ध्यान रखने की सलाह देते हैं।

एक्सपर्ट्स की मानें तो अपनी जीवनशैली और खानपान में बदलाव करके यूरिक एसिड के स्तर को कंट्रोल किया जा सकता है। कुछ खाद्य पदार्थ हैं, जिन्हें अपने रूटीन में शामिल करने से आप यूरिक एसिड के स्तर को काबू में रख सकते हैं।

अलसी के बीज: अलसी के बीज स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद होते हैं। इनमें ओमेगा-3 फैटी एसिड, फाइबर, प्रोटीन, विटामिन, मैग्नीशियम और फास्फोरस की प्रचुर मात्रा होती है। हाई यूरिक एसिड के मरीज अपनी डाइट में अलसी के बीजों को शामिल कर सकते हैं। इसके लिए आप सुबह उठकर खाली पेट अलसी के बीज चबाएं। आप चाहें तो इन्हें भूनकर भी खा सकते हैं। नियमित तौर पर अलसी के बीजों का सेवन करने से यूरिक एसिड के स्तर को काबू में रखा जा सकता है।

ग्रीन टी: ग्रीन टी कई तरह की स्वास्थ्य समस्याओं से छुटकारा दिलाती है। सामान्य चाय की तुलना में ग्रीन टी काफी लाभदायक होती है। इसमें मौजूद कैटेचिन और एंटीऑक्सीडेंट तत्व यूरिक एसिड को इक्ट्ठा होने से रोक सकते है। आप साधारण चाय की जगह अपने रूटीन में ग्रीन टी शामिल कर सकते हैं।

पढें हेल्थ समाचार (Healthhindi News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।