scorecardresearch

थकान, जी मिचलाने के लक्षण का दिल से है सीधा संबंध, ये चीजें हो सकती हैं हार्ट फेल्योर के लिए जिम्मेदार

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अनुसार, अनुमानित 17.9 मिलियन लोग हर साल दिल से संबंधित बीमारियों से मर जाते हैं।

थकान, जी मिचलाने के लक्षण का दिल से है सीधा संबंध, ये चीजें हो सकती हैं हार्ट फेल्योर के लिए जिम्मेदार
दिल के रोगों से बचना चाहते हैं तो डाइट में ताजे फलों और सब्जियों का सेवन करें। (Image: Pixabay)

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के अनुसार, हृदय रोग दुनिया भर में मौत का प्रमुख कारण हैं। अगर हम हृदय विकारों की बात करें तो इसमें सीवीडी, कोरोनरी हृदय रोग (Coronary Heart Disease), रक्त धमनी का रोग (Cerebrovascular Disease), वातरोगग्रस्त हृदय रोग (Rheumatic Heart Disease) और अन्य स्थितियां शामिल हैं। अनुमानित 17.9 मिलियन लोग हर साल दिल से संबंधित बीमारियों से मर जाते हैं।

हृदय रोग से संबंधित बीमारियों के शिकार होने वालों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। इसका एक अहम कारण लोगों में हृदय स्वास्थ्य के बारे में जानकारी की कमी है। दिल की सेहत बिगड़ने से शरीर में तुरंत लक्षण दिखने लगते हैं। जागरूकता की कमी के कारण इन लक्षणों को आसानी से नजरअंदाज कर दिया जाता है। यहां तक ​​कि समय के साथ हार्ट अटैक या हार्ट फेल्योर जैसी बीमारियों का भी खतरा रहता है।

हार्ट अटैक या हृदय का फेल हो जाना क्या है?

जब हृदय की मांसपेशी क्षतिग्रस्त हो जाती है या हृदय की प्रभावी ढंग से पंप करने की क्षमता कम हो जाती है। उस समय हृदय रोगी हो जाता है। हृदय वाल्व दोष, उच्च रक्तचाप या आनुवंशिक रोग भी हृदय की विफलता के प्रमुख कारण हो सकते हैं। कारण जो भी हो एक असफल हृदय शरीर की ऑक्सीजन युक्त रक्त की आवश्यकता को पूरा करने के लिए पर्याप्त पंप नहीं कर सकता है।

हार्ट फेल होने के क्या लक्षण है?

यह व्यक्ति बहुत थका हुआ लगता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि हृदय शरीर की ऊर्जा जरूरतों के लिए पर्याप्त ऑक्सीजन पंप करने में असमर्थ है। इससे व्यक्ति बहुत थका हुआ महसूस करता है। महत्वपूर्ण बात यह है कि व्यक्ति साधारण दैनिक कार्य भी करने में असमर्थ है। यह व्यक्ति तुरंत थका हुआ महसूस करता है।

डेली रूटीन वर्क करने में दिक्कत

हृदय रोग से पीड़ित लोग नियमित दिनचर्या की गतिविधियां भी नहीं कर पाते हैं। इन लोगों के शरीर में उतनी ताकत नहीं होती। वे किसी भी चीज पर ध्यान केंद्रित नहीं कर पाते हैं।

सांस लेने में दिक्क्त

जिन लोगों को हृदय रोग होता है उनमें लगातार खांसी, बेचैनी और सांस लेने में कठिनाई जैसे लक्षणों का अनुभव होता है। ऐसे लक्षणों को कभी भी नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। सबसे पहले डॉक्टर से बात करें।

एड़ी और टखनों में होती है परेशानी

जब हृदय में उपयोग किए गए रक्त को निचले अंगों से वापस पंप करने के लिए पर्याप्त पंपिंग शक्ति नहीं होती है। इससे टखनों, पैरों, जांघों और पेट में तरल पदार्थ जमा हो जाता है। अतिरिक्त तरल पदार्थ कई लोगों में वजन बढ़ने का कारण बन सकता है। अधिक वजन होने से दिल पर भी असर पड़ता है।

भूख न लगना, जी मिचलाना

किसी के पाचन तंत्र को कम रक्त प्राप्त होता है, जिससे पाचन संबंधी समस्याएं होती हैं। इसलिए, भूख न लगना और यहां तक ​​कि जी मिचलाना जैसे लक्षण दिखाई देंगे। चूंकि ये लक्षण दिल से भी जुड़े होते हैं, इसलिए इन्हें बिल्कुल भी नजरअंदाज न करें।

हार्ट बीट का बढ़ जाना

अगर आपकी हृदय गति तेजी से बढ़ती है, तो इसे नज़रअंदाज न करें और तुरंत डॉक्टर से सलाह लें। इन लक्षणों की शीघ्र पहचान और उचित सलाह या उपचार से स्थिति में सुधार हो सकता है। अक्सर यह दिल की धड़कन को नजरअंदाज कर दिल का दौरा पड़ सकता है।

पढें हेल्थ (Healthhindi News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

First published on: 01-10-2022 at 02:55:53 pm
अपडेट