अमेठी के नये जिला चिकित्सालय को डीडीओ कोड मिलने से सरकारी दवा की आपूर्ति शुरू, मरीज खुश

अमेठी के नये जिला चिकित्सालय को डीडीओ कोड मिल गया है, जिससे सरकारी दवा की आपूर्ति शुरू हो गई है।

Dengue havoc, Amethi
अमेठी के नए जिला अस्पताल में डॉक्टर के पास जुटे मरीज। फाइल फोटो।

अमेठी के नये जिला चिकित्सालय को डीडीओ कोड मिल गया है, जिससे सरकारी दवा की आपूर्ति शुरू हो गई है। इसके पहले पौने दो साल से जिला चिकित्सालय उधार की दवा पर चल रहा था।अस्पताल के पास लंबे समय से मरीजों के लिए दवा नहीं थी। केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के अपर सचिव विजय गुप्ता ने बताया कि अमेठी जनपद में डाक्टरों के महत्वपूर्ण खाली पदों को भरने के लिए पत्र लिखा गया है। डीडीओ कोड मिलने के साथ ही डाक्टरों की तैनाती शुरू हो गई है। जिला चिकित्सालय के सीएमएस डॉ बद्री प्रसाद अग्रवाल ने बताया कि 191 प्रकार की दवा की आपूर्ति शुरू हो गई है।

इसके बाद महिला रोग विशेषज्ञ डॉ रुचिका सेठ की तैनाती हो गई है। अभी जनपद में सर्जन के सभी 18 पद खाली पड़े हैं, जिससे आपातकालीन सेवा के मरीजों को बाहर रेफर करना पड़ता है। दुर्घटना के मरीजों को तुरंत इलाज न मिलने से रास्ते में मौत हो जाती है। इसलिए सर्जरी विशेषज्ञों की तैनाती बहुत आवश्यक है। इसके लिए बार- बार निदेशालय को पत्र लिखा जाता है पर पत्र का कोई असर नहीं होता है।

आगे उन्होंने बताया कि तीन संविदा डाक्‍टरों को लेकर 19 डाक्टर अभी तैनात हैं। बाल रोग विशेषज्ञ डॉ लाइक ने बताया कि डीडीओ कोड मिलने से मरीजों को बेहतर इलाज के साथ बेहतर सुविधाएं भी मिलेंगी। पौने दो साल से जिला चिकित्सालय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र गौरीगंज के फंड से चल रहा था, लेकिन उधारी के फंड में पैसे बचे नहीं थें, जिससे दवा का अभाव लाज़मी है। अब मरीजों को सभी दवाएं काउंटर पर मिलेगी। प्रभारी फार्मासिस्ट रेनू ने बताया कि 191 प्रकार की दवा की आपूर्ति शुरू हो गई है, जिससे अब मरीजों को सभी दवाएं काउंटर पर मिलेगी। शनिवार तक काउंटर पर केवल 45 प्रकार की दवाएं ही मौजूद थी।

एमडी मेडिसिन डॉ नीरज वर्मा ने बताया कि कोड मिलने से बहुत सुविधाएं बढ़ जाएगी। अभी तक नाम के लिए जिला अस्पताल था लेकिन फंड के अभाव में सुविधाएं नहीं मिल रही थी। ओपीडी के डाक्टरों को जनरल खर्चे के पैसे जेब से भरने पड़ते थे। बाकी अस्पतालों में दवा का अभाव नहीं है। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र अमेठी के चिकित्सा अधीक्षक डॉ सौरभ सिंह ने बताया कि किसी भी दवा की कमी नहीं है। फार्मासिस्ट जितेंद्र सिंह ने बताया कि अस्पताल में महंगी से महंगी दवाओं की आपूर्ति हो रही है। सांस के मरीजों के लिए इनहेलर तक की सरकारी आपूर्ति हो रही है।

पढें हेल्थ समाचार (Healthhindi News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट