ताज़ा खबर
 

ज्यादा भुने टोस्ट खाने वाले सावधान, बढ़ सकता है कैंसर का खतरा

हाल ही में सामने आई एक रिसर्च के मुताबिक ब्रेड टोस्ट को अधिक भूनने या पकाने पर उसका रंग गाढ़ा लाला या काला हो जाता है। ऐसी स्थिति में एक्रिलामाइड रसायन बनने लगता है, जोकि कैंसर का मुख्य कारण हो सकता है।

प्रतीकात्मक तस्वीर।)फोटो सोर्स- यूट्यूब)

ज्यादातर लोग ब्रेकफास्ट में ब्रेड टोस्ट लेना पसंद करते हैं। क्योंकि इसे तैयार करना बेहद आसान है और फटाफट बनाकर खा सकते हैं। अक्सर ऑफिस या स्कूल जाने की जल्दी में ब्रेड टोस्ट सबसे अच्छा ब्रेकफास्ट माना जाता है। लेकिन इसी जल्दबाजी में लोग अपनी सेहत के साथ खिलवाड़ कर बैठते हैं। क्योंकि कई हेल्थ एक्सपर्ट्स का मानना है कि जल्दी ब्रेकफास्ट करने के चक्कर में कुछ लोग जले हुए या अधिक ब्राउन हुए ब्रेड टोस्ट भी खा लेते हैं, जिससे हेल्थ पर बुरा असर पड़ता है। यहां तक कि एक रिसर्च के मुताबिक जले ब्रेड टोस्ट का सेवन करने से कैंसर जैसी खतरनाक बीमारी भी हो सकती है। हालांकि अभी तक सबूतों के अभाव में जानकारी को पक्का नहीं माना गया है।

दरअसल, हाल ही में सामने आई एक रिसर्च के मुताबिक ब्रेड टोस्ट को अधिक भूनने पर उसका रंग गाढ़ा लाला या काला हो जाता है। ऐसी स्थिति में टोस्ट से एक्रिलामाइड रसायन बनने लगता है, जोकि कैंसर का मुख्य कारण हो सकता है। हालांकि एक्रिलामाइड तभी से बन रहा है जब से इंसान ने खाना पकाना शुरू किया है, लेकिन साल 2002 में स्‍वीडिश वैज्ञानिकों के एक ग्रुप ने शोध में कुछ बेक्‍ड एवं फ्राइड फूड्स में यौगिक के दर्शनीय स्‍तरों का पता लगाया गया था, जिसकी भोजन में होने की जानकारी नहीं थी।

अधिक स्टार्च और शर्करा वाले ये भोजन से नुकसान: यह बात ब्रेड टोस्ट तक ही सीमित नहीँ है इसमें वे सभी खाने-पीने की चीजें शामिल हैं जिनमें स्टार्च की मात्रा काफी अधिक पाई जाती है। इनमें कॉफी, चॉकलेट, बादाम, फ्रेंच फ्राइज़, क्रैकर्स, आलू के चिप्‍स, अनाज, ब्रेड और यहां तक कि कुछ फल और सब्जियां भी शामिल हैं। इसके अलावा जिनमें शर्करा अधिक होती है और जो 120 डिग्री सेल्सियस तक पकाए जाते हैं, उनमें भी एक्रिलामाइड बनता है- जैसे कि दालें, बिस्किट, क्रैक्स, केक और कॉफी।

बचने के उपाय: आलू या ब्रेड पकाते हैं तो उसमें भी स्टार्च की मात्रा पाई जाती है। जब ये जल जाते हैं तो इसमें एक ऐसा पदार्थ होता है जो शरीर में कैंसर के रिस्क को बढ़ावा देता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने बचने के उपाय में बताया है कि आपकी ब्रेड या आलू जल जाए तो उसे खाने में शामिल न करें। खाने की चीजों का रंग जितना गहरा होगा उसमें उतनी अधिक मात्रा में एक्रिलामाइड बनेंगा। इसलिए खाने को भूरा होने तक भुनने या पकाने से बचना चाहिए। बता दें कि कैंसर रिसर्च से जुड़ी प्रवक्ता का कहना है कि गहरे लाल भुने खानों से कैंसर होने की पुष्टि अभी इंसानों में नहीं हुई है। लेकिन जानवरों पर किए गए के मुताबिक यह रसायन उनके डीनए के लिए विषैला होता है और इससे कैंसर पैदा करता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App