ताज़ा खबर
 

पिता करते हैं स्‍मोक तो 50 फीसदी तक कम हो सकता है स्‍पर्म काउंट: रिसर्च

धूम्रपान करने से आपके शरीर पर बहुत से नकारात्मक प्रभाव होते हैं। इतना ही नहीं, यह आपकी संतान को भी प्रभावित करता है।

Author नई दिल्ली | November 25, 2018 4:52 PM
प्रतीकात्मक चित्र।

हमने बहुत से रिसर्च और अध्ययनों में पढ़ा है कि अगर गर्भवती महिला धूम्रपान करती हैं तो इसका बुरा असर होने वाले शिशु के स्वास्थ्य पर पड़ता है। यहां तक कि गर्भवती महिला के स्मोकिंग करने से होने वाले बेबी बॉय में स्पर्म क्वालिटी घट सकती हैं। अब एक शोध में कहा गया है कि गर्भावस्था के दौरान अगर पिता धूम्रपान करता है तो इसके कारण होने वाले बच्चे में(अगर वह लड़का है तो) स्पर्म काउंट 50 प्रतिशत तक कम हो सकता है।

शोध के परिणामों मे पाया गया है कि मां के द्वारा स्मोकिंग करने से, सामाजिक-आर्थिक कारकों और खुद स्मोकिंग करने के कारण निकोटीन के संपर्क में रहने वाले पुरुषों, और जिनके पिता धूम्रपान करते हैं, उन पुरुषों में स्पर्म काउंट 51 प्रतिशत तक कम होता है और स्पर्म कंसन्ट्रेशन 41 प्रतिशत कम होता है।

लुंड यूनिवर्सिटी, स्वीडन के स्पेशलिस्ट फिजियशन जोनाटन एक्जेलसन ने कहा, “मैं शोध के परिणामों से हैरान हूं। मां के निकोटीन से संपर्क में होने के स्तर के अलावा, उन लोगों में स्पर्म काउंट अधिक कम था जिनके पिता स्मोकिंग करते थे।”

उन्होंने कहा, “हम जानते हैं कि स्पर्म काउंट का गर्भधारण की संभावनाओं से गहरा संबंध हैं इसलिए यह इन पुरुषों के भविष्य में पिता बनने की संभावनाओं को प्रभावित कर सकता है।”

उन्होंने आगे कहा, “पिता का धूम्रपान करना बेटियों में प्रजनन जीवनकाल के कम होने से भी जुड़ा है। इसलिए यह कहना गलत होगा कि शिशु का स्वास्थ्य केवल मां के स्मोकिंग करने या ना करने पर ही निर्भर करता है।”

एक्जेलसन ने बताया कि रिसर्च में अभी यह साफ नहीं हो पाया है कि इन परिणामों के पीछे कारण क्या है लेकिन कई शोधों मे पता तला है कि पिता के धूम्रपान करने से बच्चे के स्वास्थ्य पर गहरा असर हो सकता है।

इसके अलावा, शोध में यह भी पाया गया है कि स्मोकिंग करने वाले लोगों के स्पर्म के डीएनए डैमेज होने की संभावनाएं होती हैं। धूम्रपान करने वाले लोगों के डीएनए स्ट्रैंड्स में अधिक ब्रेक होते हैं।

यह शोध स्वीडन के 104 पुरुषों पर किया गया था जिनकी उम्र 17 से 20 साल थी। यह रिसर्च पेपर ‘PLOS ONE’ में प्रकाशित हुआ है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App