ताज़ा खबर
 

जरूरत से ज्‍यादा सोने से हो सकती है मौत! नई रिसर्च में दावा

शोध में पाया गया है कि रात को 6-8 घंटे से अधिक सोने से व्यक्ति में कार्डियोवस्कुलर डिजीज और मौत का खतरा बड़ जाता है।

Author नई दिल्ली | December 8, 2018 11:37 AM
प्रतीकात्मक चित्र।

हम में से हर कोई जानता है कि पर्याप्त नींद हमारी सेहत के लिए बेहद जरुरी है। अगर हम पर्याप्त मात्रा में नींद नहीं लेते हैं तो इसके कारण हमें कई स्वास्थ्य समस्याएं जैसे तनाव, चिंता, सिर दर्द, खराब पाचन और थकान आदि हो सकती हैं। हालांकि पर्याप्त नींद लेने के साथ यह भी जरुरी है कि आप ज्यादा नींद ना लें। जरुरत से अधिक सोना भी आपकी सेहत को प्रभावित करता है। एक नए रिसर्च में कहा गया है कि जरुरत से अधिक सोने से आपकी जान तक को खतरा हो सकता है। आइए जानते हैं क्या कहता है रिसर्च।

शोध में पाया गया है कि रात को 6-8 घंटे से अधिक सोने से व्यक्ति में कार्डियोवस्कुलर डिजीज और मौत का खतरा बड़ जाता है। मैकमास्टर एंड पेकिंग यूनियन मेडिकल कालेज द्वारा कराए गए नए शोध में पाया गया है कि जो लोग 8 घंटे की अधिकतम सीमा से अधिक नींद लेते हैं उनमें कार्डियोवस्कुलर समस्याएं जैसे दिल का दौला, दिल का फेल होना और मौत का खतरा 41 प्रतिशत अधिक होता है।

शोध के दौरान शोधकर्ताओं ने पाया है कि कुछ लोग विशेष स्वास्थ्य समस्याओं के कारण अधिक नींद लेते हैं जो उनमें कार्डियोवस्कुलर डिजीज का खतरा बढ़ा सकती है। इस शोध के परिणाम जर्नल ऑफ यूरोपियन हार्ट में प्रकाशित हुए हैं।

शोधकर्ताओं की टीम दिन में सोने वाले लोगों में इन जोखिमों की संभावनाओं का पता लगाया। रिसर्चर चौंगशी वांग ने कहा, “जो लोग रात में 6 घंटे से ज्यादा सोते हैं और दिन में भी नैप लेते हैं, उनमें कार्डियोवस्कुलर डिजीज और मौत का जोखिम अधिक देखा गया। जबकि जो लोग रात में 6 घंटे से कम नींद लेते हैं और दिन में भी सोते हैं उनमें यह खतरा नहीं था।”

रात में कम सोने वाले लोग दिन में नींद लेकर रात के समय को पूरा कर लेते हैं जिससे उनमें कार्डियोवस्कुलर डिजीज का खतरा नहीं होता। इसके अलावा, शोधकर्ताओं ने यह भी पाया कि रात में 6 घंटे से कम नींद लेने वाले लोगों में इन बीमारियों का खतरा 9 प्रतिशत अधिक होता है। इसलिए हर किसी को 6-8 घंटे की पर्याप्त नींद लेने की सलाह दी जाती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App