ताज़ा खबर
 

पिता बनने की ताकत छीन सकता है यह पेनकिलर टैबलेट

हाल ही में कोपेनहेगेन में किए गए एक शोध में यह कहा गया है कि छोटे से अंतराल में भी एक दिन में 6 आइबूप्रोफेन पेनकिलर खाने वाले पुरुषों की फर्टिलिटी पर बुरा प्रभाव पड़ता है।

प्रतीकात्मक चित्र

आइबूप्रोफेन पेनकिलर के इस्तेमाल को लेकर एक शोध में बड़ा खुलासा किया गया है। हाल ही में कोपेनहेगेन में किए गए एक शोध में यह कहा गया है कि छोटे से अंतराल के लिए भी एक दिन में 6 आइबूप्रोफेन पेनकिलर खाने वाले पुरुषों की फर्टिलिटी पर बुरा प्रभाव पड़ता है। शोध में बताया गया है कि 6 हफ्ते तक ऐसा करने वाले पुरुषों की न सिर्फ प्रजनन क्षमता प्रभावित होती है बल्कि इससे उनके सेक्शुअल पर्फार्मेंस पर भी असर पड़ता है। शोधकर्ताओं का कहना है कि आइबूप्रोफेन पेनकिलर सेक्स हार्मोन्स के प्रोडक्शन को प्रभावित करने के साथ-साथ पुरुषों में इरेक्टाइल डिसफंक्शन की समस्या का भी कारण बनता है।

शोध में 18-35 साल तक के युवाओं को शामिल किया गया था। कोपेनहेगन में हुए इस अध्ययन में शामिल लोगों को 6 हफ्तों के लिए 3-3 टैबलेट्स दिन में दो बार खाने के लिए दिए गए थे। इसी दौरान शोधकर्ताओं ने उनके वृषण कोशिकाओं में पेन किलर के प्रभावों का अध्ययन किया और देखा कि इससे शोध में शामिल लोगों में सेक्शुअल हार्मोन में असंतुलन संबंधी विकार पाए गए। उन्होंने इसे हाइपोगोनेडिज्म नाम दिया। हाइपोगोनेडिज्म एक ऐसी अवस्था है जो टेस्टोस्टेरॉन प्रोडक्शन को रेगुलेट करने वाले सेक्स हार्मोन्स पर बुरा प्रभाव डालती है। शोध में यह भी पाया गया कि जब उन्होंने पेन किलर्स का इस्तेमाल बंद कर दिया तब उन्होंने खुद को इस समस्या से आसानी से उबार लिया था।

लोअर लेवल टेस्टोस्टेरॉन वाले पुरुषों में इन्फर्टिलिटी और इरेक्टाइल डिसफंक्शन जैसी समस्याएं सामने आती हैं। इसके अलावा भी उनमें कई तरह के शारीरिक लक्षण प्रदर्शित होते हैं। इस वजह से उनके मसल्स तथा बॉडी हेयर्स में कमी आती है। साथ ही उनके स्तन-ऊतकों में वृद्धि होने लगती है। शोध से जुड़े एक शोधकर्ता का कहना है कि बुजुर्गों में ऐसे पेनकिलर्स के लंबी अवधि तक प्रयोग को सीमित करने की जरूरत है ताकि उनमें जठरांत्र, वृक्क और दिल संबंधी प्रतिकूल प्रभावों को रोका जा सके। इसके अलावा इस स्टडी ने उन सभी विचारों पर भी विराम लगा दिया जिसमें अब तक कहा जाता था कि खिलाड़ियों को व्यायाम आदि के दर्द से निजात पाने के लिए नियमित रूप से पेन किलर्स का सेवन करना चाहिए।


Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App