ताज़ा खबर
 

Shikhar Dhawan को है हेयरलाइन फ्रैक्चर, जानें इस इंजरी से जुड़ी कुछ जरूरी बातें

Shikhar Dhawan Injury: बल्लेबाज शिखर धवन बाएं हाथ के अंगूठे में हेयरलाइन फ्रैक्चर के कारण वर्ल्ड कप के कम से कम तीन मैचों तक बाहर रहेंगे। हेयरलाइन फ्रैक्चर से जुड़ी हर जरूरी बातों की सही जानकारी होनी जरूरी होती है।

शिखर धवन (Source: Shikhar Dhawan Instagram)

Shikhar Dhawan Hairline Fracture: टीम इंडिया के ओपनर और स्टार बल्लेबाज शिखर धवन चोटिल हो गए हैं। उन्हें अंगूठे में हेयरलाइन फ्रैक्चर हो गया है। इस चोट के कारण उनके विश्व कप से बाहर होने की अटकलें मीडिया में चल रही हैं। हालांकि अभी इस बारे में बीसीसीआई की तरफ से कई औपचारिक ऐलान नहीं हुआ है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक सप्ताह भर के लिए धवन डॉक्टरों की निगरानी में रहेंगे। आइए जानते हैं हेयरलाइन फ्रैक्चर क्या है और इसके पीछे कारण, ट्रीटमेंट और लक्षण क्या है।

हेयरलाइन फ्रैक्चर क्या है?
शरीर के किसी भी अंग में जैसे- हाथ ,पैर की या किसी भी हड्डी में बारीक रूप से फैक्चर हो जाना ही हेयरलाइन फ्रैक्चर है। आमतौर पर यह पैर या निचले पैर में विकसित होता है। हेयरलाइन फ्रैक्चर ऊपरी अंग में भी हो सकता है और यह अक्सर गिरने या किसी भारी चीज से चोट लगने के कारण होता है। हेयरलाइन फ्रैक्चर में आप प्रभावित हिस्से की मूवमेंट लगभग एक महीने तक नहीं कर सकते हैं। ऐसा करने से समस्या जल्दी ठीक नहीं होगी।

हेयरलाइन फ्रैक्चर के लक्षण?
हेयरलाइन फ्रैक्चर का सबसे आम लक्षण दर्द होता है। यह दर्द धीरे-धीरे समय के साथ खराब हो सकता है, खासकर तब जब आप प्रभावित हिस्से के मूवमेंट को नहीं रोक पाते हैं। गतिविधि के दौरान दर्द आमतौर पर बदतर होता है और आराम के दौरान कम हो जाता है। अन्य लक्षणों में शामिल हैं:

-सूजन
– नील पड़ जाना
– प्रभावित हिस्सा कोमल हो जाना

हेयरलाइन फ्रैक्चर का कारण क्या है?
अधिकांश हेयरलाइन फ्रैक्चर अति प्रयोग या पुनरावृत्ति गतिविधि के कारण होता हैं। गतिविधि की अवधि या आवृत्ति में वृद्धि से हेयरलाइन फ्रैक्चर हो सकता है। इसका मतलब यह है कि अगर आप दौड़ने के आदी हैं और अचानक से आप दौड़ने या चलने के डिस्टेंस को बढ़ा देते हैं तो चोट लगने की संभावना अधिक बढ़ जाती है।

हेयरलाइन फ्रैक्चर का निदान कैसे किया जाता है?

फिजिकल एक्जामिनेशन: सबसे पहले डॉक्टर फिजिकल एक्जामिनेशन करता है। वह प्रभावित हिस्से पर हल्का दबाव डालते हैं यह देखने के लिए कि आपको दर्द होता है या नहीं। इसके बाद वह आगे कि प्रक्रिया की शुरूआत करते हैं।

एमआरआई: हेयरलाइन फ्रैक्चर का सबसे अच्छा निदान एमआइआई होता है। यह टेस्ट आपकी हड्डियों की इमेजेज को प्रदान करने के लिए मैग्नेट और रेडियो वेव्स का उपयोग करता है। एक्स-रे करवाने से पहले एक एमआरआई करना जरूरी होता है।

एक्स-रे: चोट लगने के तुरंत बाद एक्स-रे करने से हेयरलाइन फ्रैक्चर दिखाई नहीं देता है। चोट लगने के कुछ सप्ताह बाद फ्रैक्चर दिखाई दे सकता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X