ताज़ा खबर
 

Shatrughan Sinha को थी ये बीमारी, आप चाहते हैं बचना तो करें इन फूड्स को डाइट में शामिल

Shatrughan Sinha health: शत्रुघ्न सिन्हा की तरह यदि आपको भी रेस्पिरेट्री प्रॉब्लम है तो आप अपको अपने डाइट में कुछ बदलाव लाने की जरूरत है। हेल्दी लाइफस्टाइल और डाइट को अपने रूटीन में जरूर शामिल करें।

शत्रुघ्न सिन्हा (Representational Image)

Shatrughan Sinha health: शत्रुघ्न सिन्हा अपने जमाने के एक बेहतरीन एक्टर रह चुके हैं। एक्टिंग छोड़ने के बाद उन्होंने राजनीति में कदम रखा। शत्रुघ्न सिन्हा गंभीर रेस्पिरेट्री प्रॉब्लम से जूझ चुके हैं। इस वजह से लगभग महीने भर अस्पताल में भर्ती भी रहे थे। उनको ये बीमारी घर पर पेंटिंग जैसे काम करने के चलते हुई थी। अस्पताल से निकलने के बाद उनका वजन 12 किलो तक कम हो गया था। इसके बाद उन्होंने अपने खान-पान और लाइफस्टाइल में कई बदलाव किए। अगर आप भी इस तरह की रेस्पिरेट्री समस्या का सामना कर रहे हैं तो आपको हेल्दी डाइट की जरूरत है। हेल्दी डाइट से आपके शरीर को कई जरूरी पोषक तत्व मिलेंगे जो आपको इस समस्या से छुटकारा दिलाने में मदद कर सकते हैं। आइए जानते हैं किन फूड्स को डाइट में शामिल करने से आप इस समस्या से बच सकते हैं या इनके लक्षणों को कम कर सकते हैं।

ग्रीन-टी:
ग्रीन-टी में एंटीऑक्सीडेंट होते हैं जो रेस्पिरेट्री ट्रैक्ट से सारे टॉक्सिंस को नष्ट कर देते हैं। साथ ही यह रेस्पिरेट्री ट्रैक्ट से म्यूकस को भी निकाल देते हैं। इसके अलावा ग्रीन-टी का सेवन आपकी ब्रीदिंग प्रॉब्लम को भी दूर कर देते हैं।

गाजर:
गाजर में बीटा-कैरोटिन होता है जो अस्थमा की समस्या को कम करता है। हमारा शरीर बीटा-कैरोटिन को विटामिन-ए में बदल देता है जो एक आवश्यक तत्व होता है। बीटा-कैरोटिन में एंटीऑक्सीडेंट गुण भी होते हैं जो सेल्स को डैमेज होने से बचाते हैं।

नट्स:
नट्स में विटामिन-ई होता है जो सांस की नली को अच्छी तरह खोल देते हैं और सूजन को कम करते हैं। विटामिन ई इम्यून सिस्टम के लिए एक शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट की तरह काम करता है जो लाल रक्त कोशिका के निर्माण में क्षतिग्रस्त फेफड़े के ऊतकों की रक्षा करने में मदद करता है, जिससे शरीर के अंदर ऑक्सीजन बढ़ता है।

हरी पत्तेदार सब्जियां:
पालक और अन्य पत्तेदार सब्जियां मैग्नीशियम और फोलेट के अच्छे स्रोत होते हैं जो अस्थमा और अन्य एलर्जी को कम करने में मदद कर सकता है। साथ ही फेफड़ों में होने वाले सूजन को भी कम करता है।

(और Health News पढ़ें)

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Breast Cancer और ओवेरियन कैंसर का पता लगाने के लिए IIT रुड़की ने खोज निकाला नया तरीका
2 क्या अधिक मीठा खाने से हो सकता है डायबिटीज? जानिए ऐसे ही कुछ सवालों के जवाब
3 पैरों में पड़े गांठ को दूर कर सकते हैं ये आसान टिप्स, आजमा कर देखें
IPL 2020 LIVE
X