बदलते मौसम में वायरल-फ्लू का खतरा होता है ज्यादा, इन 5 घरेलू उपाय से दूर होंगे फ्लू के लक्षण

Viral Flu Home Remedies: बदलते मौसम में वाली बीमारियां भी खांसी और जुखाम से ही शुरू होते हैं जिस वजह से लोग सामान्य फ्लू और कोरोना वायरस के बीच अंतर नहीं कर पा रहे हैं

Coronavirus, Covid-19, Influenza, fever, cold and cough, flu
शरीर में इस दौरान मौजूद कीटाणुओं को दूर करने में बॉडी में ज़िंक की मौजूदगी जरूरी है

Viral Flu Treatment: पिछले कुछ दिनों से लोग कभी गर्मी, बरसात तो कभी सुबह-सुबह चादर ओढ़ने की जरूरत महसूस करते हैं। मौसम में आने वाली इस बदलाव के कारण कई लोगों में सर्दी-खांसी, वायरल और फ्लू के लक्षण दिखाई देने लगते हैं। वहीं, सर्दी का मौसम आते ही ये परेशानी ज्यादा बढ़ जाती है। आमतौर पर हर साल लोग इन परेशानियों को उतनी गंभीरता से नहीं लेते थे। लेकिन इस कोरोना काल में ये सभी लक्षण कोविड-19 वायरस के भी हैं। ऐसे में जरा सी खांसी भी लोगों में संक्रमण का शक पैदा कर देती है। हालांकि, नाक बहना, फीवर, खांसी और गले में खराश फ्लू के भी लक्षण होते हैं। इस परेशानी से निजात पाने के लिए बदलते मौसम में इन उपायों को किया जा सकता है।

नमक-पानी से गार्गल: फ्लू के आम लक्षणों में गले में खराश की समस्या भी आती है। इस इरिटेशन को दूर करने का सबसे आसान उपाय नमक-पानी से गार्गल करना है। दिन-भर में कम से कम दो बार गार्गल करने से गले में हो रही दिक्कत और सूजन से आराम मिलता है। साथ ही, छाती में मौजूद बलगम को दूर करने में भी ये कारगर है।

पानी पीते रहें: पेट की समस्या में हाइड्रेटेड रहने के महत्व को हर कोई जानता है। लेकिन क्या आपको पता है कि सर्दी-जुकाम होने पर भी पानी पीते रहना जरूरी है। इस दौरान ज्यादा पानी पीने से बलगम जल्दी नहीं बनता है। वहीं, अगर कोई फीवर से पीड़ित है तो उसकी बॉडी अपने आप ही डिहाइड्रेट होती है। ऐसे में पानी पीना अच्छा है।

भाप लें: बंद नाक, गले में खराश और सूखी खांसी को दूर करने में भाप का कोई जोड़ नहीं है। इससे बलगम को दूर करने में भी मदद मिलती है। फ्लू के कारण होने वाली कंजेशन से राहत पाने के लिए भी भाप लेना एक बेहतर उपाय है। इस दौरान गर्म पानी में कोई मेडिकेटेड वेपर रब मिलाना अधिक फायदेमंद होगा।

बढ़ाएं ज़िंक की खुराक: शरीर में इस दौरान मौजूद कीटाणुओं को दूर करने में बॉडी में ज़िंक की मौजूदगी जरूरी है। ज़िंक शरीर में WBCs के उत्पादन के लिए भी जरूरी होता है। ये वायरस को बढ़ने से भी रोकता है। एक अध्ययन के अनुसार ज़िंक कोल्ड और फ्लू के लक्षणों को कम करने में मददगार है।

करें हर्बल टी का सेवन: अदरक, हल्दी और लौंग से बने हर्बल चाय में एंटी-वायरल गुण पाए जाते हैं। मौसमी फ्लू में इन तीनों औषधियों से बनी चाय पीने से गले व छाती में मौजूद कंजेशन को दूर करने में मदद मिलती है। साथ ही, दूध में पाया जाने वाला एंटी-ऑक्सीडेंट वायरस को दूर करने में कारगर है। हालांकि, इस दौरान ग्रीन टी या ब्लैक कॉफी पीने से शरीर में डिहाइड्रेशन हो सकती है।

अपडेट