ताज़ा खबर
 

Coronavirus से दवाओं के प्रोडक्शन पर असर, Paracetamol के दाम 40 परसेंट तक बढ़े, अप्रैल तक…

Coronavirus, Coronavirus in India, Coronavirus affects in India, Medicine prices rise due to Coronavirus: दुनिया के कई हिस्सों को अपने चपेट में ले चुके कोरोना वायरस से सिर्फ लोगों की जान तो जा ही रही है, साथ में कई देशों को आर्थिक नुकसान भी झेलना पड़ रहा है

कोरोना वायरस के असर से देश में बढ़ रहे दवाइयों के दाम, अप्रैल तक हो सकती है किल्लत

Coronavirus, Coronavirus in India, Coronavirus affects in India, Medicine prices rise due to Coronavirus: कोरोना वायरस का कहर कम होने का नाम नहीं ले रहा है। पूरी दुनिया को अपनी चपेट में ले चुके इस जानलेवा वायरस से सबसे बुरी हालत चीन की हुई है। वहां अब तक 1700 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। इस वायरस ने वहां के जनजीवन को ठप कर दिया है जिसका प्रभाव भारत पर भी देखने को मिल रहा है। ‘टाइम्स ऑफ इंडिया’ में छपी एक खबर के अनुसार, कोरोना वायरस का देश के फार्मा इंडस्ट्री पर बहुत ही बुरा असर पड़ रहा है। इससे पैरासिटामोल जैसी महत्वपूर्ण दवाइयों के दाम में इजाफा हो रहा है।

40 प्रतिशत तक बढ़ रहे पैरासिटामोल के दाम: लगभग सभी के घरों में आमतौर पर इस्तेमाल किए जाने वाले एनलजेसिक में से एक होता है पैरासिटामोल। कई बार बुखार या शरीर के किसी हिस्से में दर्द होने पर लोग इस दवा का सेवन करते हैं। भारत में लगभग सभी दवाइयों में इस्तेमाल होने वाले कच्चे माल का 80 प्रतिशत हिस्सा चीन से ही आता है। कोरोना वायरस से बुरी तरह प्रभावित चीन से कच्चे माल का आ पाना तुरंत संभव नहीं है। ऐसे में भारत में कई दवाइयों के दाम पर असर पड़ा है। जहां पैरासिटामोल के दाम में 40 प्रतिशत तक इजाफा हुआ है वही, एंटीबायोटिक एजिथ्रोमाइसिन के दाम भी 70 प्रतिशत तक बढ़े हैं।

फार्मा इंडस्ट्री को करना पड़ सकता है किल्लत का सामना: कोरोना वायरस से चीन के लगभग सभी बॉर्डर्स प्रभावित हैं। लोगों के घर में बंद होने की वजह से वहां हर प्रकार के सप्लाई को बंद कर दिया गया है, साथ ही फैक्ट्रियों में भी कोई काम नहीं हो रहा है। इस वजह से चीन से कच्चा माल भारत पहुंचने की संभावना बेहद कम है। पूरी दुनिया में जेनेरिक दवाइयों को सप्लाई करने में भारत की गिनती की जाती है। ऐसे में माना जा रहा है कि अगर कच्चे माल की पूर्ति अगले महीने के पहले सप्ताह तक नहीं की गई तो अप्रैल में देश के फार्मा इंडस्ट्री को किल्लत का सामना करना पड़ सकता है।

अस्पताल के डायरेक्टर की कोरोना वायरस से हुई मौत: वुहान के वुचांग अस्पताल के डायरेक्टर लीऊ झिमिंग (Liu Zhiming) की कोरोना वायरस से मौत हो गई। चीनी मीडिया के अनुसार उन्हें बचाने के लिए की गई हर संभव कोशिश नाकाम साबित हुई। इससे पहले भी चीन में कोरोना वायरस को लेकर पहली चेतावनी देने वाले डॉक्टर ली वेनलियांग की भी कुछ समय पहले मौत हो गई थी। बता दें कि ‘एएफपी’ की एक खबर के अनुसार, चीन में डॉक्टर्स की कमी के वजह से कई दूसरे डॉक्टर्स बगैर मास्क के भी काम करने को मजबूर हैं।

Next Stories
1 Coronavirus को लेकर भारत को मिली बड़ी जीत, वैज्ञानिकों ने किया कैंडीडेट वैक्सीन तैयार
2 Diabetes के मरीजों के लिए फायदेमंद है ठंडे दूध में रोटी भिगोकर खाना, और भी हैं कई लाभ
3 1 साल से छोटे बच्चे के लिए कितना सुरक्षित है शहद? जानें ये किस तरह करता है बच्चों के सेहत को प्रभावित
ये पढ़ा क्या?
X