ताज़ा खबर
 

खराब Metabolism से बढ़ता है डायबिटीज का खतरा, इन उपायों से बूस्ट करें मेटाबॉलिज्म

Diabetes Lifestyle: डायबिटीज यानी मधुमेह भी एक मेटाबॉलिक डिसॉर्डर है, ऐसे में लोगों को अपने डेली रूटीन का ध्यान रखना बहुत जरूरी है

Diabetes, high blood sugar, weight loss, diabetes symptoms, diabetes basic symptomsडायबिटीज यानी मधुमेह भी एक मेटाबॉलिक डिसॉर्डर है

Diabetes Risk: आज के जीवन शैली में आलस्य व अनियमितता की अधिकता हो गई है। इस कारण कम उम्र में ही लोगों की मेटाबॉलिज्म प्रभावित हो जाती है। स्वास्थ्य विशेषज्ञों का मानना है कि जिन लोगों का मेटाबॉलिक रेट कम होता है, उनका वजन बहुत तेजी से भागता है जिस पर संतुलन पाना आसान नहीं होता है। डायबिटीज यानी मधुमेह भी एक मेटाबॉलिक डिसॉर्डर है। सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (CDC) के अनुसार 45 या उससे अधिक उम्र के लोगों में या फिर जो लोग अधिक वजनदार हैं अथवा कम सक्रिय हैं, उनमें डायबिटीज का खतरा अधिक होता है। ऐसे में आइए जानते हैं कि किन उपायों को अपनाने से मेटाबॉलिज्म बूस्ट करने में मदद मिलती है।

वजन पर रखें नियंत्रण: विशेषज्ञों का मानना है कि अच्छी सेहत के लिए लोगों को अपने वजन पर नियंत्रण रखने की जरूरत होती है। अपनी डाइट और जीवन शैली का ध्यान रखकर और जरूरत पड़ने पर डॉक्टर की सलाह लेकर वेट मैनेज करना जरूरी है। माना जाता है कि 5 से 10 परसेंट वजन कम करने से भी मेटाबॉलिक रेट बढ़ सकता है। सिर्फ इतना ही नहीं, इससे शरीर में इंसुलिन और एनर्जी लेवल भी बेहतर होती है।

भोजन का रखें ध्यान: स्वस्थ और नियंत्रित खानपान भी अच्छी सेहत का एक पैमाना है। हेल्थ एक्सपर्ट्स का कहना है कि लोगों को हेल्दी ईटिंग के साथ धीरे-धीरे खाना भी जरूरी है। संतुलित मात्रा में खाना खाना आवश्यक है, न कम खाएं और न ही ज्यादा। जल्दी-जल्दी खाने से भोजन में पाया जाने वाला पोषक तत्व ठीक तरीके से शरीर तक नहीं पहुंच पाता है।

वर्क आउट भी जरूरी: विशेषज्ञों का मानना है कि हार्ड वर्क आउट के बजाय लोगों को स्मार्ट वर्क आउट करना चाहिए। मेटाबॉलिज्म को मजबूत करने में स्ट्रेंथ ट्रेनिंग और हाई इंटेंसिटी ट्रेनिंग जैसे एक्सरसाइज मदद करते हैं। इसके अलावा, कार्डियो, स्विमिंग या फिर साइकलिंग करना भी लोगों के लिए फायदेमंद होगा।

लें भरपूर नींद: मेटाबॉलिज्म बढ़ाने में पर्याप्त नींद लेना भी जरूरी है। रात के समय जब व्यक्ति सो रहा होता है, शरीर में अधिकतर रिपेयर का काम इसी समय होता है। सोने से करीब एक घंटे पहले एलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स से दूरी बना लें और कम से कम 7 से 8 घंटे की नींद लें।

नहीं लें तनाव: फिजिकल हेल्थ के साथ ही मेंटल हेल्थ भी बहुत जरूरी है। अगर कोई बात आपको परेशान कर रही है तो अपने परिवार या दोस्तों से चर्चा करें। स्ट्रेस से कम नींद, अधिक भूख और वजन बढ़ने जैसी परेशानी हो जाती है। ऐसे में तनाव कम लें।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 सर्दियों में मजबूत इम्युनिटी के लिए डाइट में शामिल करें ये 5 फूड्स
2 विशेषज्ञ की कलम से: मनोविज्ञान के क्षेत्र में मनपंसद अवसर
3 रात में दाल-चावल खाने से भी बढ़ सकता है यूरिक एसिड का स्तर, जानें किन चीजों से परहेज है जरूरी
ये पढ़ा क्या?
X