scorecardresearch

Paralysis Cure: क्या लकवा पूरी तरह ठीक हो सकता है? जानिये पक्षाघात के मरीजों का कैसा होना चाहिए खान-पान

अचानक से बॉडी के एक हिस्से में कमजोरी आना, मुंह का टेडा होना, किसी भी बात को समझने या बोलने में उलझन होना, बिना किसी वजह के सिर दर्द होना इस बीमारी के शुरूआती लक्षण हैं।

Paralysis Cure: क्या लकवा पूरी तरह ठीक हो सकता है? जानिये पक्षाघात के मरीजों का कैसा होना चाहिए खान-पान
लकवा के मरीज डाइट में ऐसे फूड्स का सेवन करें जिनमें पोटैशियम भरपूर मात्रा में मौजूद हो। photo-freepik

बिगड़ता लाइफस्टाइल, खराब डाइट और तनाव जाने-अनजाने में ही आपको बीमारियों का शिकार बना देता है। लकवा (Paralysis) एक ऐसी बीमारी है जो अचानक से होती है। पक्षाघात तब होता है जब अचानक मस्तिष्क के किसी हिस्से मे ब्लड का सर्कुलेशन रूक जाता है या फिर ब्रेन की कोई रक्त वाहिका फट जाती है।

रक्त वाहिका फट जाने से मस्तिष्क की कोशिकाओं के आस-पास की जगह में खून भर जाता है। लकवा की बीमारी आमतौर पर कुछ कारणों की वजह से होती है जैसे ब्रेन हैम्ब्रेज की वजह से, ब्लड पाइप में ब्लॉक हो जाने की वजह से भी लकवा की बीमारी होती है। स्ट्रोक, सिर में चोट लगना, रीढ़ की हड्डी की चोट और मल्टीपल स्क्लेरोसिस की वजह से भी ये बीमारी हो सकती है।

लकवा तब होता है जब बॉडी में विटामिन बी-12 और बी कॉम्प्लेक्स की कमी हो जाती है। यह बीमारी लाइफस्टाइल में आए बदलाव की वजह से होती है। इस बीमारी के लक्षणों की पहचान समय पर कर ली जाए तो तुरंत उसका उपचार कर सकते हैं। आइए जानते हैं कि क्या लकवा को डाइट के जरिए ठीक किया जा सकता है?

लकवा के शुरुआती लक्षण: ( symptoms of paralysis)

लकवा की पहचान बहुत आसानी से की जा सकती है। अचानक से बॉडी के एक हिस्से में कमजोरी आना, मुंह का टेडा होना, किसी भी बात को समझने या बोलने में उलझन होना, बिना किसी वजह के सिर दर्द होना इस बीमारी के शुरूआती लक्षण हैं। अगर इस बीमारी के लक्षणों की पहचान कर ली जाए तो काफी हद तक इस बीमारी को रिकवर किया जा सकता है।

लकवा को ठीक किया जा सकता है:

लकवा के लक्षण दिखने के बाद मरीज में दो से तीन दिनों में सुधार होना शुरू हो जाता है। करीब छह महीने में मरीज में रिकवरी तेज होती है और एक से डेढ़ साल में इस बीमारी से पूरी तरह निजात पाई जा सकती है। डेढ़ साल तक अगर इस बीमारी से रिकवरी नहीं होती तो उसके बाद रिकवरी होना मुश्किल होता है।

लकवा के मरीजों की डाइट कैसी होनी चाहिए: (Diet chart for paralysis patients)

पोटैशियम से भरपूर फूड्स का सेवन करें:

लकवा के मरीज डाइट में ऐसे फूड्स का सेवन करें जिनमें पोटैशियम भरपूर मात्रा में मौजूद हो। डाइट में फल, सब्‍जि‍यों और म‍िल्‍क उत्‍पाद का सेवन करें। कई फल जैसे केला, एप्रिकोट, संतरा, सेब का सेवन करें। सब्जियों में आलू, शकरकंद, स्‍पीनेच, टमाटर में पोटैश‍ियम भरपूर मात्रा में होता है उसका सेवन करें।

डाइट में करें फाइबर का सेवन:

जिन लोगों को पैरालिसिस है वो डाइट में फाइबर से भरपूर फूड्स का सेवन करें। डाइट में फाइबर का सेवन करने से वजन कंट्रोल रहेगा और दिल की भी सेहत अच्छी रहेगी। पैराल‍िस‍िस के मरीज फाइबर की कमी को पूरा करने के लिए सुबह नाश्ते में फ्रूट्स का सेवन करें।

लकवा के मरीज नमक का करें कम सेवन:

जिन लोगों को लकवा की परेशानी है वो अपने ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करें। इन मरीजों के लिए 120/80 ब्लड होना चाहिए। ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने के लिए नमक का सेवन कम करें। लकवा के मरीज पूरे दिन में आधा चम्मच नमक से ज्यादा का सेवन नहीं करें।

पढें हेल्थ (Healthhindi News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.