ताज़ा खबर
 

दिल की बीमारी को रखना है दूर तो फल और सब्जियों से ना करें परहेज

Millions of cardiovascular deaths: एक अध्ययन में पाया गया है कि जो लोग पर्याप्त मात्रा में फलों और सब्जियों को अपनी डाइट में शामिल नहीं करते हैं उनमें कार्डियोवस्कुलर डीजिज के कारण समय से पहले मौत की संभावना अधिक होती है।

फल और सब्जियां (Source: File photo)

Fresh fruits and vegetables linked with cardiovascular deaths: एक अध्ययन में पाया गया है कि अपर्याप्त फल और सब्जी खाने से हर साल दिल की बीमारी से लाखों लोगों की मौत होती है। अध्ययन में अनुमान लगाया गया था कि लगभग सात में एक लोग फल नहीं खाने से कार्डियोवस्कुलर डीजिज के शिकार होते हैं और उनकी मौत भी होने का खतरा अधिक होता है। साथ ही यह भी था उस अध्ययन में कि 12 में से 1 लोग पर्याप्त सब्जी नहीं खाने से कार्डियोवस्कुलर डीजिज के कारण मौत के शिकार हो जाते हैं।

शोधकर्ताओं ने कहा कि 2010 में लगभग 1.8 मिलियन लोग कम फल खाने के कारण कार्डियोवस्कुलर डीजिज के कारण मौत के शिकार हो गए थे और लगभग 1 मिलियन लोग कम सब्जी खाने के कारण कार्डियोवस्कुलर डीजिज के कारण मौत के शिकार हो गए थे। फल और सब्जियों के सबसे कम औसत इंटेक वाले देशों में प्रभाव सबसे तीव्र थे।

अमेरिका में टफ्ट्स विश्वविद्यालय के पोस्टडॉक्टरल शोधकर्ता विक्टोरिया मिलर ने कहा, “फल और सब्जियां एक महत्वपूर्ण आहार है जो विश्व भर में होने वाली मौतों को रोक सकता है।” मिलर ने कहा, “हमारा निष्कर्ष दुनिया भर में फल और सब्जी की खपत को बढ़ाने के लिए पॉपुलेशन-बेस्ड एफर्ट्स की आवश्यकता को इंगित करता है।”

फल और सब्जियां फाइबर, पोटेशियम, मैग्नीशियम, एंटीऑक्सीडेंट और फिनोलिक्स का अच्छा स्रोत होता है,जो ब्लड प्रेशर और कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद करता है। फ्रेश फूट्स और वेजिटेबल कई स्वास्थ्य समस्याओं को बेहतर करता है और डाइजेस्टिव ट्रैक्ट में गुड बैक्टीरिया का उत्पादन करता है। जो लोग इन फलों और सब्जियों को अपनी डाइट में शामिल करते हैं उनका वजन भी कंट्रोल में रहता है और कार्डियोवस्कुलर डीजिज होने का खतरा भी कम हो जाता है। टफ्ट्स यूनिवर्सिटी के दरियूस मोजफेरियन ने कहा, “ग्लोबल न्यूट्रिशन कैलोरी, विटामिन सप्लीमेंट्स और रेड्यूसिंग एडिटिव्स जैसे नमक और चीनी पर अधिक फोकस करता है।”

(और Health News पढ़ें)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X