ताज़ा खबर
 

Lunar Eclipse 2020: नग्न आंखों से क्यों नहीं देखना चाहिए चंद्र ग्रहण, जानिये

Lunar Eclipse (Chandra Grahan) November 2020: चंद्रग्रहण को खुली आंखों से देखना चाहिए या नहीं, इस बात को लेकर कई लोगों की अलग-अलग राय है

chandra grahan, chandra grahan 2020, grahan 2020, lunar eclipse 2020, chandra grahan November 2020ग्रहण लगने पर अक्सर घर के बड़े-बूढ़े नंगी आंखों से ग्रहण देखने से मना करते हैं

Lunar Eclipse (Chandra Grahan) November 2020: आज यानी सोमवार 30 नवंबर को साल 2020 का अंतिम चंद्रग्रहण लगने वाला है। हालांकि, ये एक उपच्छाया चंद्रग्रहण होगा। इस तरह के ग्रहण में चंद्रमा की केवल परछाई ही पृथ्वी पर आ पाएगी। बता दें कि यही कारण है जिस वजह से जानकारों ने इसे पूर्ण रूप रूप से ग्रहण की मान्यता नहीं दी है। इस बार 30 नवंबर को कई विशेष संयोग बन रहे हैं, जिस वजह से इस ग्रहण को अत्यधिक खास माना जा रहा है। ग्रहण लगने पर अक्सर घर के बड़े-बूढ़े नंगी आंखों से ग्रहण देखने से मना करते हैं। ऐसे में लोगों के मन में जिज्ञासा उत्पन्न होने लगती है। आइए जानते हैं क्या है इसके पीछे की वजह –

चंद्रग्रहण को खुली आंखों से देखना चाहिए या नहीं, इस बात को लेकर कई लोगों की अलग-अलग राय है। कुछ लोग जहां इसे खतरनाक मानते हैं, वहीं, कई इस विशेष खगोलीय घटना का हिस्सा बनने की भी सलाह देते हैं।

इसलिए नहीं दी जाती है नग्न आंखों से ग्रहण देखने की सलाह: जानकारों के मुताबिक चंद्रग्रहण को कभी भी नंगी आंखों से नहीं देखना चाहिए। ऐसा इसलिए क्योंकि इससे ग्रहण का असर नजरों पर पड़ता है जिससे आंखों में विकार आने की संभावनाएं पैदा हो सकती है। साथ ही कोई नेत्र रोग भी हो सकता है। इसलिए प्राचीन काल से ही चंद्रमा को नंगी आंखों से नहीं देखा जाता है।

कुछ करते हैं खारिज: वैज्ञानिकों के अनुसार चंद्र ग्रहण को नग्न आंखों से देखा जा सकता है। इससे आंखों को किसी प्रकार के नुकसान होने की संभावना नहीं रहती। चंद्र ग्रहण को देखने के लिए किसी भी तरह के प्रोटेक्टिव फिल्टर्स की जरूरत नहीं पड़ती है। इसे आंखों पर बिना कोई चश्मा, एक्स-रे या आई प्रोटेक्टिव केयर का इस्तेमाल किए भी देखा जा सकता है।

सूर्य ग्रहण देखना हो सकता है खतरनाक: सूर्य ग्रहण के दौरान सोलर रेडियेशन निकलता है। ऐसे में जो लोग सूर्य ग्रहण को सीधे तौर पर देखेंगे उनमें, आंखों की टिश्यूज के डैमेज होने का खतरा अधिक हो जाता है। इस कारण उन्हें देखने में समस्या उत्पन्न हो सकती है। इस स्थिति को चिकित्सीय शब्दावली में रेटिनल सनबर्न कहा जाता है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 हर्षवर्धन से चर्चा : दो-तीन महीने में देशवासियों को बेहतर टीका मिलेगा
2 कोविड से युद्ध में मिलेगी कामयाबी
3 Chandra Grahan 2020: कल है चंद्रग्रहण, जानें ग्रहण का स्वास्थ्य पर कैसा पड़ता है प्रभाव, जानें
ये पढ़ा क्या?
X